Wednesday , February 21 2024

Vastu Tips: घर में तोता जैसा कोई पक्षी पालना चाहिए या नहीं, जानिए वास्तु शास्त्र इस बारे में क्या कहता है?

वास्तु टिप्स: वास्तु में तोते को शुभ पक्षी माना जाता है, इसे पालने से घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है। लेकिन अगर आप तोता पालते हैं तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। इससे घर में सकारात्मकता तेजी से बढ़ेगी।

बच्चों की पढ़ाई में होती है रुचि: जिन घरों में छोटे बच्चे होते हैं, वहां तोता जरूर होता है। तोता पालने से बच्चों का दिमाग तेज होता है, दिमाग की एकाग्रता बढ़ती है और बच्चों का पढ़ाई में मन लगता है।

तोता पालने की दिशा: वास्तु शास्त्र में दिशा का बहुत महत्व है। ऐसे में तोते का पिंजरा पूर्व या उत्तर दिशा में रखना शुभ होता है। क्योंकि यह दिशा भगवान कुबेर और माता लक्ष्मी की है। इस दिशा में तोता पालने से घर में सुख-समृद्धि बढ़ती है।

तोते को हरी चीजें खिलाएं: अगर आप अपने घर में तोता पालते हैं तो उसके खान-पान का पूरा ध्यान रखें। जहां तक ​​हो सके उसे हरी चीजें ही खिलाएं। अगर आपके द्वारा पाला गया तोता खुश रहता है तो इससे घर में बरकत आती है। क्रोधित तोता घर में नकारात्मकता का कारण बनता है।

 

तोते को अकेले न रखें: तोते को घर में अकेले नहीं रखना चाहिए। अगर आप तोता पालने की सोच रहे हैं तो आपको अपने साथ एक मैना भी रखनी चाहिए। जोड़ा में तोता रखें, घर में तोता-मैना का जोड़ा रखने से पति-पत्नी के रिश्ते में प्रेम मिठास बढ़ती है।

पूजा घर में माचिस क्यों नहीं रखनी चाहिए?

पूजा घर में हम पूजा से जुड़ी कई सामग्रियां रखते हैं। इन्हीं में से एक है माचिस, जिसका उपयोग दीपक, अगरबत्ती या अगरबत्ती जलाने के लिए किया जाता है। लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार पूजा घर में माचिस रखना बहुत अशुभ माना जाता है।

  पूजा घर में माचिस रखने से घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ता है। पूजा कक्ष एक पवित्र स्थान होता है इसलिए इस पवित्र स्थान पर ज्वलनशील पदार्थ रखना अशुभ माना जाता है।

पूजा कक्ष में माचिस के साथ-साथ ज्वलनशील पदार्थ जैसे लाइटर आदि भी नहीं रखना चाहिए। अगर आप पूजा का शुभ फल पाना चाहते हैं तो मंदिर में न रखें ये चीजें धूपबत्ती जलाने के बाद आप उसे दूसरी जगह रख सकते हैं।

वास्तु शास्त्र के अनुसार मंदिर में या भगवान की मूर्ति के पास माचिस की तीली नहीं रखनी चाहिए। माचिस जलाने के बाद उसकी नोक को मंदिर से दूर नहीं फेंकना चाहिए। क्योंकि जली हुई माचिस की तीलियां नकारात्मकता बढ़ाती हैं, जिससे घर में दुर्भाग्य भी आता है।

वास्तुशास्त्र के अनुसार, मंदिर या पूजा कक्ष के साथ-साथ शयनकक्ष में माचिस या लाइटर जैसी ज्वलनशील वस्तुएं नहीं रखनी चाहिए। ऐसा करने से वैवाहिक जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।