Sunday , May 19 2024

हर रिश्ते में होते हैं ये 5 पड़ाव, जानें आपको किस पड़ाव के प्रति सचेत रहना चाहिए

रिश्ते के चरण: प्यार में पड़ने वाला हर कोई सोचता है कि उसका रिश्ता हमेशा फिल्मों की कहानियों की तरह खूबसूरत हो। लेकिन खास बात यह है कि असल जिंदगी में कोई भी रिश्ता परफेक्ट नहीं होता, वह दोनों की कोशिशों से ही मजबूत होता है। असल जिंदगी में प्यार का सफर उतार-चढ़ाव से भरा है। इसे ध्यान में रखते हुए जब कई रिश्तों का एक साथ अध्ययन किया गया तो हर रिश्ते में कुछ बातें समान पाई गईं। समय के साथ हर रिश्ते में कुछ उतार-चढ़ाव आते हैं, जिन्हें कुछ चरणों में विभाजित किया जा सकता है। इसमें प्यार में पड़ने से लेकर ब्रह्मचर्य तक हर उतार-चढ़ाव पर चर्चा हो सकती है। फोर्ब्स में छपे एक आर्टिकल के मुताबिक, एक रिश्ते को 5 चरणों में बांटा गया है, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए।

1. आकर्षण चरण (पहले छह महीने)

यह शुरुआती बिंदु है जहां सब कुछ नया और रोमांचक लगता है। आप अपने पार्टनर को जानने के लिए उत्सुक हैं। साथ घूमना, बातें करना, एक-दूसरे को खास महसूस कराना इस पड़ाव की खासियत है। इस समय प्यार के उन्माद में अक्सर आपसी खामियों को नजरअंदाज कर दिया जाता है। इस बिंदु पर यथासंभव स्वतंत्र रूप से बोलने का प्रयास करें। 

2. हनीमून चरण (छह महीने से दो साल तक)

इस अवस्था में आप धीरे-धीरे अपने पार्टनर को उसके असली रूप में समझने लगते हैं। उनकी आदतें, पसंद-नापसंद, स्वभाव सब सामने आ जाता है। यह वह चरण है जहां आप तय करते हैं कि आप साथ रह सकते हैं या नहीं। साथ रहने के लिए किन प्राथमिकताओं पर काम करना चाहिए? इस समय आपसी तकरार भी शुरू हो सकती है, लेकिन अगर प्यार बना रहे तो आपसी बातचीत से रिश्ते को मजबूत बनाया जा सकता है। इस दौरान हम अपने भविष्य के रोडमैप की नींव रखते हैं।

3. भावनात्मक अवस्था (दो वर्ष बाद)

इस समय आप एक-दूसरे के साथ रहने के आदी हो चुके हैं। एक-दूसरे की खामियों को स्वीकार करना सीखें। दैनिक जीवन की चुनौतियों का सामना करें। यही वह समय होता है जब आप देखते हैं कि आपका पार्टनर आपके सुख-दुख में आपका कितना साथ देता है। आइए अपनी जिम्मेदारियां साझा करें। इस अवधि की खासियत यह है कि ये अपने पार्टनर की खुशी के लिए समझौता करने लगते हैं। 

4. प्रतिबद्धता चरण (दो वर्षों के बाद)

इस अवस्था में कपल्स को डर रहता है कि कहीं उनके बीच शारीरिक संबंध कम न हो जाएं। इस स्तर पर लोगों को एक-दूसरे पर थोड़ा ध्यान देना चाहिए, इस स्तर पर सावधान रहना चाहिए। ऐसे रिश्ते को रोमांचक बनाने के लिए एक-दूसरे के प्रति हर छोटी-बड़ी कोशिश बहुत जरूरी है। इस समय अपनी टिप्पणियों के प्रति बहुत तटस्थ रहना महत्वपूर्ण है। ऐसे में एक-दूसरे की खूबसूरती और अनोखी आदतों की सराहना करनी चाहिए।

5. परिपक्व रिश्ता (पांच साल बाद)

यह वह चरण है जहां रिश्ता लगभग परिपक्व होता है। आपने अपने पार्टनर को पूरी तरह से स्वीकार कर लिया है। उनकी खूबियों के साथ-साथ उनकी खामियों से भी प्यार करें।