Wednesday , May 29 2024

स्लीप डिवोर्स: क्या आपने ‘स्लीप डिवोर्स’ का नाम सुना है?

क्या है स्लीप डिवोर्स : आपने तलाक के बारे में तो बहुत सुना होगा, लेकिन क्या आपने ‘स्लीप डिवोर्स’ का नाम सुना है? यह चलन दुनिया के कई देशों में चलन में आ गया है। निकट भविष्य में इसके भारत में लोकप्रिय होने की संभावना है। आइए ‘स्लीप तलाक’ के बारे में विस्तार से जानते हैं।

‘स्लीप तलाक’ क्या है?

‘स्लीपिंग तलाक’ का मतलब है कि जोड़ा अलग होने या तलाक की प्रक्रिया से नहीं गुजरता है, लेकिन एक ही घर में रहने के बावजूद कभी-कभी वे अलग-अलग सोने लगते हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि वे लड़ाई-झगड़े की वजह से बिस्तर बदलते हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि वे कई रातों तक शांति से सो सकें और एक-दूसरे को परेशान न करें।

कई बार ऐसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है जब पुरुष और महिला पार्टनर के काम के घंटे अलग-अलग होते हैं। उदाहरण के लिए, एक लड़की दिन की पाली कर रही है और एक लड़का रात की पाली कर रहा है। ऐसे में दोनों एक-दूसरे को सिर्फ वीकेंड पर ही क्वालिटी टाइम दे पाते हैं। ऐसे में दोनों आराम करने के लिए हफ्ते में 5 दिन अलग-अलग बिस्तर लेते हैं।

स्लीप डिवोर्स का नाम सुनकर किसी जोड़े को डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इस समय वे भावनात्मक स्तर पर अलग नहीं होते हैं , बल्कि आराम की जरूरत को पूरा करने के लिए कुछ दिनों के लिए शारीरिक रूप से अलग हो जाते हैं। सप्ताह, लेकिन यदि आवश्यक हो या जब समय उपलब्ध हो, लेकिन वे फिर एक साथ आते हैं।

नींद तलाक के लाभ 

1. कुछ लोगों को नींद को अलग करने का चलन पसंद नहीं आ सकता है, लेकिन संबंध विशेषज्ञ इसके कई फायदे बताते हैं, जिसमें पूरी रात की नींद लेने में मदद करने के लिए अलग सोना भी शामिल है, जो समग्र स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। अगर बलगम की कमी हो तो जलन बढ़ जाती है।

2 . इसमें कोई संदेह नहीं है कि जोड़ों को भावनात्मक और शारीरिक रूप से जुड़े रहने की आवश्यकता है, लेकिन एक अच्छे रिश्ते के लिए व्यक्तिगत स्थान की भी आवश्यकता होती है, कभी-कभी अकेले सोने से उन्हें सहज महसूस होता है।

3 . हर किसी की नींद की दिनचर्या एक जैसी नहीं होती, इसलिए कभी-कभी एक साथ सोने से दोनों लोगों की नींद का चक्र बाधित हो सकता है। ऐसे में अलग सोना फायदेमंद साबित होता है।