Sunday , June 23 2024

सांसों की दुर्गंध: क्या ब्रश करने के बाद भी आपकी सांसों से दुर्गंध आती है? तो अपनाएं ये 6 टिप्स

सांसों की दुर्गंध: क्या आपने कभी महसूस किया है कि दिन में दो बार दांत साफ करने के बाद भी आपके मुंह से दुर्गंध आती है? यह निश्चित रूप से शर्मनाक हो सकता है, खासकर जब आप किसी से बात कर रहे हों या किसी सामाजिक कार्यक्रम में भाग ले रहे हों।

लेकिन घबराना नहीं! सांसों की दुर्गंध के कई कारण हो सकते हैं और ज्यादातर मामलों में इसका आसानी से इलाज किया जा सकता है। इस लेख में हम सांसों की दुर्गंध के कुछ सामान्य कारणों और उनसे छुटकारा पाने के तरीकों पर चर्चा करेंगे।

मसूड़े का रोग

मसूड़े की सूजन और पेरियोडोंटाइटिस सहित मसूड़ों की बीमारी, सांसों की दुर्गंध का एक आम कारण है। जब बैक्टीरिया मसूड़ों में जमा हो जाते हैं, तो वे जलन और सूजन पैदा करते हैं, जिससे दुर्गंधयुक्त गैसें निकलती हैं।

जीभ पर सफेदी लौट आना

जीभ पर सफेद परत सांसों की दुर्गंध का एक और आम कारण है। यह मृत कोशिकाओं और जीवाणुओं का एक संचय है जो जीभ पर बनता है। जीभ को नियमित रूप से ब्रश करने से इस परत को हटाने में मदद मिल सकती है।

शुष्क मुंह

शुष्क मुँह को ज़ेरोस्टोमिया भी कहा जाता है, जो लार की कमी के कारण होता है। लार मुंह को साफ करने और बैक्टीरिया के विकास को रोकने में मदद करती है। जब लार कम होती है, तो मुंह में बैक्टीरिया अधिक आसानी से पनप सकते हैं, जिससे सांसों में दुर्गंध आती है।

अपच

अपच और गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) सहित रोग सांसों में दुर्गंध का कारण बन सकते हैं। जब भोजन पेट में ठीक से नहीं पचता है, तो यह गैस और एसिड को वापस मुंह में ला सकता है, जिससे सांसों में दुर्गंध आ सकती है।

मधुमेह

मधुमेह सांसों से दुर्गंध का कारण बन सकता है क्योंकि यह शरीर में कीटोन्स नामक रसायनों का उत्पादन बढ़ा देता है। केटोन्स में मीठी लेकिन तीखी गंध होती है, जो सांसों में दुर्गंध का कारण बन सकती है।

यदि आपकी सांसों से लगातार दुर्गंध आ रही है, तो डॉक्टर से मिलना जरूरी है। वे सांसों की दुर्गंध का कारण बनने वाली गंभीर बीमारियों का निदान और इलाज करने में मदद कर सकते हैं। नीचे कुछ घरेलू उपचार दिए गए हैं जो सांसों की दुर्गंध से छुटकारा पाने में मदद कर सकते हैं।

– दिन में दो बार ब्रश करें और एक बार फ्लॉस करें।

– जीभ को नियमित रूप से साफ करें।

– खूब सारा पानी पीओ।

– माउथवॉश का प्रयोग करें.

-धूम्रपान और तंबाकू के सेवन से बचें।

– स्वस्थ आहार लें।