Thursday , February 22 2024

शनि साढ़ेसाती उपाय: शनि साढ़ेसाती और ढैय्या में बर्बाद होने से पहले करें ये उपाय, कष्टों से मिलेगी मुक्ति

शनि साढ़ेसाती उपाय: शनि कर्म के फल के अनुसार न्याय करने वाले देवता हैं। लेकिन अगर शनि की अशुभ दृष्टि किसी व्यक्ति के जीवन पर पड़ जाए तो व्यक्ति बर्बाद भी हो सकता है। यह व्यक्ति के लिए बहुत कष्टकारी समय होता है, खासकर जब शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या चल रही हो। इस दौरान व्यक्ति को आर्थिक, शारीरिक, मानसिक और पारिवारिक जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। हालाँकि, ज्योतिष शास्त्र में ऐसे उपाय भी हैं जो व्यक्ति को साढ़ेसाती और ढैय्या के कष्ट से मुक्ति दिला सकते हैं। 

शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का समय भी व्यक्ति के लिए घातक साबित हो सकता है। इसके अलावा जिन लोगों की कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में होता है उन्हें भी शनि काफी कष्ट देते हैं। ऐसे में अगर आप कुछ चीजें अपने पास रखें तो शनि से होने वाली परेशानियां कम हो सकती हैं। आइए आज हम आपको बताते हैं कि वो कौन से काम हैं जिन्हें करने से शनि पीड़ा से राहत मिल सकती है।

एक लोहे की वस्तु

यदि शनि दोष के कारण आपके साथ बार-बार दुर्घटनाएं होती हैं या स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां होती हैं तो शनिवार के दिन किसी जरूरतमंद व्यक्ति को खाना पकाने का लोहे का बर्तन दान करें।

 

घोड़े की नाल

घोड़े के पैर से जुड़ी नाल शनि कष्ट से राहत दिलाने में मदद कर सकती है। इसके लिए शुक्रवार के दिन घोड़े की नाल पर सरसों का तेल लगाएं और इसे घर के मुख्य दरवाजे के ऊपर रखें। 

एक पीपा उपाय

शनि कष्ट से राहत पाने के लिए शनिवार के दिन बेल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं और फिर बेल के पेड़ की 21 बार परिक्रमा करने से शनि साढ़ेसाती और ढैय्या कष्ट से राहत मिलती है।

 

लोहे की अंगूठी

शनि दोष से राहत पाने के लिए घोड़े की नाल से बनी वीटी पहनने की भी सलाह दी जाती है। शनिवार के दिन घोड़े की नाल से बनी अंगूठी को सरसों के तेल में भिगोकर रखें और इसके बाद इसे पानी से धोकर मध्यमा उंगली में पहन लें।

छाया दान

शनि की पीड़ा से मुक्ति पाने का यह अचूक उपाय है। शनिवार की सुबह एक लोहे के बर्तन में सरसों का तेल भरकर उसमें एक रुपये का सिक्का रखें। अब इस तेल में अपना चेहरा डुबाकर तेल सहित किसी योग्य जरूरतमंद व्यक्ति को दान कर दें या किसी सुपारी के पेड़ के नीचे रख दें। इस बर्तन को आप शनि मंदिर में भी रख सकते हैं।