Thursday , February 22 2024

वेस्टइंडीज के हरफनमौला खिलाड़ी सुनील नरेन ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया संन्यास

सेंट जॉन्स, 6 नवंबर (हि.स.)। वेस्टइंडीज के हरफनमौला खिलाड़ी सुनील नरेन ने रविवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है।

वेस्टइंडीज के हरफनमौला खिलाड़ी, जिनका विंडीज का प्रतिनिधित्व करते हुए आठ साल का शानदार करियर रहा, ने आखिरी बार वेस्टइंडीज के लिए अगस्त 2019 में टी20ई मैच खेला था। ।

नरेन ने इंस्टाग्राम पर लिखा, “मैं खुशी है कि मुझे वेस्टइंडीज के लिए आखिरी बार खेले हुए चार साल से ज्यादा हो गए हैं, लेकिन आज मैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर रहा हूं।”

उन्होंने कहा, “सार्वजनिक रूप से, मैं कम बोलने वाला व्यक्ति हूं, लेकिन निजी तौर पर, कुछ ऐसे लोग हैं जिन्होंने मेरे पूरे करियर में मुझे अटूट समर्थन दिया और वेस्टइंडीज का प्रतिनिधित्व करने के मेरे सपने को साकार करने में मदद की और मैं आपके प्रति अपनी गहरी कृतज्ञता व्यक्त करता हूं।”

दिसंबर 2011 में पदार्पण करने से पहले, नरेन अब समाप्त हो चुकी चैंपियंस लीग टी20ई में त्रिनिदाद और टोबैगो के लिए अपने प्रदर्शन से सुर्खियों में आए थे। उन्होंने 122 अंतरराष्ट्रीय मैचों में वेस्टइंडीज का प्रतिनिधित्व किया, जिसमें छह टेस्ट, 65 वनडे और 51 टी20ई शामिल थे। उन्होंने अपने करियर में 165 विकेट लिए।

नरेन ने 2012 में वेस्टइंडीज को अपना पहला आईसीसी टी20 विश्व कप जीतने में मदद की और 2014 संस्करण में भी खेले।

2012 से, नरेन इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइट राइडर्स का नियमित हिस्सा रहे हैं, उन्होंने 162 मैचों में 163 विकेट लिए हैं और चार अर्द्धशतक के साथ 1,046 रन बनाए हैं। उन्होंने दुनिया भर में कई टी20 लीग भी खेलीं, जैसे इंटरनेशनल लीग टी20 (अबू धाबी), कैरेबियन प्रीमियर लीग में ट्रिनबागो नाइट राइडर्स और मेजर लीग क्रिकेट में लॉस एंजिल्स। वह ओवल इनविंसिबल्स के साथ हंड्रेड मेन्स प्रतियोगिता में भी थे और उन्होंने बिग बैश लीग, पाकिस्तान सुपर लीग और बांग्लादेश प्रीमियर लीग में भी भाग लिया था।

2014 में, नरेन को एक संदिग्ध एक्शन के लिए रिपोर्ट किया गया था जिसके बाद वह 2015 एकदिवसीय विश्व कप से हट गए थे।

उन्होंने अपने पिता को भी उनके समर्थन के लिए धन्यवाद दिया।

उन्होंने लिखा, “जब भी मैं मैदान पर जाता हूं तो मेरे पिता मेरे साथ मौजूद रहते हैं और मैं उनके समर्थन और प्यार का आभारी हूं, जिसने मुझे ऐसे समय में आगे बढ़ाया, जब मैंने सवाल किया कि क्या मेरे सपनों को पूरा करना वास्तव में इसके लायक है।”

उन्होंने अंत में कहा, “मुझे अपने जन्म के देश त्रिनिदाद और टोबैगो का प्रतिनिधित्व करना पसंद है और सुपर50 कप जीतकर एक और खिताब जोड़ना मेरे लिए सबसे अच्छी विदाई होगी।”