Friday , December 1 2023
Home / धर्म / वास्तु टिप्स: घर में कौन सी चीजें किस स्थान पर रखना शुभ होता है? जानिए वास्तु टिप्स

वास्तु टिप्स: घर में कौन सी चीजें किस स्थान पर रखना शुभ होता है? जानिए वास्तु टिप्स

वास्तु टिप्स: घर बनाने से लेकर घर को सजाने तक लोग वास्तु के नियमों का पालन करते हैं। ऐसा माना जाता है कि यह घर और कार्यालय में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है और नकारात्मक ऊर्जा को दूर रखता है। आज हम आपको वास्तु से जुड़े कुछ नियमों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप भी घर और ऑफिस का माहौल सकारात्मक बना सकते हैं।

वास्तु के अनुसार घर बनाते समय घर में कोई भी नई चीज रखते समय कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। वास्तु विज्ञान घरों के निर्माण के साथ-साथ दिशाओं का भी अध्ययन करता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में चीजों को सही दिशा में रखना फायदेमंद माना जाता है। घर और ऑफिस के लिए वास्तु का एक विशेष नियम होता है। अगर हम किसी चीज को गलत दिशा में रख देंगे तो उसका परिणाम भी गलत होगा। 

1. उत्तर दिशा

वास्तु के अनुसार उत्तर दिशा कुबेर की दिशा होती है। इस दिशा में तिजोरी रखना उचित नहीं माना जाता है। लेकिन आप अपनी दुकान या व्यवसाय स्थल पर इस दिशा में धन का बंडल रख सकते हैं। तिजोरी हमेशा दक्षिण दिशा में रखनी चाहिए। उत्तर दिशा को कभी भी खाली नहीं छोड़ना चाहिए इसलिए आप इस दिशा में एक छोटा सा शॉवर लगा सकते हैं

 

2. पूर्व दिशा

घर की पूर्व दिशा में कुछ भी रखने से बचना चाहिए। वास्तु के अनुसार इस दिशा के स्वामी सूर्यदेव और इंद्रदेव हैं। दिन में एक बार इस दिशा में दीपक जलाएं। यह स्थान साफ़ करें. इस दिशा में भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की मूर्ति रखें।

3. दक्षिण दिशा

वास्तु के अनुसार घर की दक्षिण दिशा में भारी वस्तुएं रखनी चाहिए। धन का संचय करना चाहिए क्योंकि यह धन जमा करने का सबसे अच्छा स्थान है। इस दिशा में शौचालय नहीं होना चाहिए। यह यमराज की दिशा, मंगल की दिशा, धन की दिशा है। इस दिशा का स्वामित्व पृथ्वी तत्व के पास है।

4. पश्चिम दिशा

इस दिशा के देवता वरुण हैं। इसका स्वामी ग्रह शनि है। इस दिशा में घर का किचन बनाया जा सकता है।

5. ईशान कोण

ईशान कोण जल और भगवान शिव का स्थान है। इस दिशा का स्वामी बृहस्पति है। ईशान कोण में पूजा घर, बोरिंग पानी की टंकी भी बनाई जा सकती है।

6. अग्निकोण

आग्नेय कोण अग्नि और मंगल का स्थान है। इस दिशा का स्वामी शुक्र है। आप दक्षिण-पूर्व कोने में रसोई या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण आदि के लिए जगह बना सकते हैं।

7. वायव्य कोण

वायव्य कोण का स्थान है। इस दिशा का स्वामी चंद्रमा है। वायु कोण को खिड़की का स्थान माना जाता है। यहां अतिथि कक्ष भी बनाया जा सकता है।

8. नैऋत्य कोण

दक्षिण-पश्चिम कोने को पृथ्वी तत्व का स्थान माना जाता है। इस दिशा के स्वामी राहु और केतु हैं। इस दिशा में टीवी, रेडियो और खेल उपकरण रखे जा सकते हैं