Sunday , June 23 2024

मनरेगा श्रमिकों को लू के प्रकोप से बचाने के लिये किये जाएं पुख्ता प्रबंध : केशव प्रसाद मौर्य

लखनऊ, 10 जून (हि.स.)। सूरज की आग उगलती लपटों और राजस्थान से आ रही गर्म हवाओं से उत्तर प्रदेश भीषण लू के चपेट में है। इसको देखते हुए उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ग्राम विकास विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिया है। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि मनरेगा श्रमिकों को भीषण गर्मी व लू के प्रकोप से बचाव के लिए और अधिक पुख्ता प्रबंध किये जाएं।

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सोमवार को मनरेगा श्रमिकों को गर्मी व लू के प्रकोप से बचाव एवं राहत के लिए सभी आवश्यक प्रबंध किये जाने के निर्देश सभी सम्बंधित अधिकारियों को दिए हैं।

उन्होंने कहा कि मनरेगा श्रमिकों व कार्यस्थल पर उनके छोटे बच्चों की देखभाल, प्राथमिक चिकित्सा, समुचित छाया, शुद्ध पेयजल आदि की उचित व प्रभावी व्यवस्था मनरेगा गाइडलाइंस व हीट-वेव (लू) प्रबंधन कार्ययोजना के तहत की जाय।

उन्होंने निर्देशित किया कि श्रमिकों के लिये कार्य करने का समय, कार्य करने के अनुकूल हो। उपमुख्यमंत्री ने बताया कि दिन के समय तापमान में वृद्धि होने की स्थित में मनरेगा श्रमिकों के कार्य समय को प्रात: 6 से 11 बजे तक एवं सायं 3 से 6 बजे तक संशोधित किया जा सकता है। समय का निर्धारण जनपद स्तर पर स्थानीय तापमान के अनुसार कर सकते हैं। भीषण गर्मी में मनरेगा श्रमिकों के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए शासन ने कार्य स्थल पर शुद्ध पेयजल की व्यवस्था करने के निर्देश दिये हैं।

मनरेगा श्रमिकों के लिये आवश्यकतानुसार प्राथमिक उपचार की व्यवस्था करने के भी निर्देश है, जिससे कि किसी भी मनरेगा श्रमिक को गर्मी से संबंधित होने वाली बीमारियों से बचाव हेतु प्राथमिक उपचार दिया जा सके। कार्यस्थल के पास शेल्टर या फिर कोई छायादार क्षेत्र की व्यवस्थाएं भी नियमानुसार सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये हैं।

ग्राम विकास के आयुक्त जी.एस. प्रियदर्शी ने बताया कि भीषण गर्मी और लू प्रकोप की संभावना के दृष्टिगत मनरेगा योजना के अंतर्गत कार्य करने वाले श्रमिकों की सुरक्षा व उनके स्वास्थ्य हेतु निर्धारित गाइडलाइंस के अनुसार जनपदों को ससमय आवश्यक दिशा निर्देश निर्गत किया जा चुके हैं।