Monday , June 24 2024

मधुमेह रोगियों को रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने के लिए अपने आहार में पालक को शामिल करना चाहिए

मधुमेह रोगियों के लिए पालक के फायदे: मधुमेह एक जानलेवा बीमारी है। डायबिटीज के कारण शरीर में ब्लड शुगर लेवल बिगड़ जाता है। डायबिटीज कई प्रकार की होती है, जिनमें से हम मुख्य रूप से टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज को जानते हैं। इस समय हमारे देश में लाखों की संख्या में डायबिटीज के मरीज हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, हमारे देश में 18 वर्ष से अधिक उम्र के 77 मिलियन लोग मधुमेह (टाइप 2) से पीड़ित हैं, जबकि लगभग 25 मिलियन लोग प्री-डायबिटीज से पीड़ित हैं। इससे भी अधिक भयावह आँकड़ा यह है कि 50 प्रतिशत से अधिक लोगों को पता ही नहीं है कि उन्हें मधुमेह है। यदि मधुमेह रोगी समय रहते अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित नहीं करते हैं, तो कम उम्र में दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा तीन गुना बढ़ जाता है। इससे आप समझ सकते हैं कि डायबिटीज को कंट्रोल करना कितना जरूरी है। इसके लिए न केवल जीवनशैली बल्कि उचित आहार की भी आवश्यकता होती है। इन दिनों सर्दी का मौसम है। अधिकांश मधुमेह रोगी अपने आहार में पालक को शामिल कर सकते हैं। मधुमेह के रोगियों के लिए यह रामबाण है। 

मधुमेह रोगियों को कितना पालक खाना चाहिए?
दरअसल किसी भी चीज़ की अति अच्छी नहीं होती. लेकिन, पालक के मामले में कहा जा सकता है कि आप इसे अधिक मात्रा में खा सकते हैं। मधुमेह रोगी भी इसका सेवन रोजाना कर सकते हैं। कम कैलोरी, कम कार्बोहाइड्रेट और कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाला भोजन होने के कारण मधुमेह रोगी इसे बिना किसी झिझक के अपने आहार का हिस्सा बना सकते हैं। हालांकि इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पालक को हमेशा अच्छे से धोकर ही खाना चाहिए। अगर पालक खाने से आपको कोई परेशानी हो तो तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें और कुछ दिनों के लिए पालक खाना बंद कर दें।

मधुमेह रोगियों के लिए पालक खाने के फायदे
रक्त शर्करा को नियंत्रित करता है: पालक हरी पत्तेदार सब्जियों का एक हिस्सा है। यह त्वचा, बालों और हड्डियों के लिए भी बेहद पौष्टिक सब्जी मानी जाती है। इतना ही नहीं, पालक के सेवन से ब्लड शुगर लेवल को भी नियंत्रित किया जा सकता है। खासतौर पर डायबिटीज के मरीजों को इसका सेवन करना चाहिए। पालक में विटामिन सी, पौधे-आधारित आयरन और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो रक्त शर्करा में अचानक वृद्धि को रोकते हैं।

कम कार्बोहाइड्रेट होता है: मधुमेह रोगियों को अपने आहार में कार्बोहाइड्रेट कम रखने की सलाह दी जाती है। अधिक कार्बोहाइड्रेट मधुमेह रोगी के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है। पालक में कार्बोहाइड्रेट बहुत कम होता है। इस कारण यह मधुमेह रोगियों के लिए एक अच्छा विकल्प है।

वजन घटाने में मददगार: जिन लोगों का वजन अधिक होता है उनमें भी मधुमेह का खतरा अधिक होता है। जबकि पालक में न के बराबर कैलोरी होती है. पालक का सेवन करने से वजन संतुलित रहता है, जो मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। जिससे शरीर में ब्लड शुगर लेवल भी स्थिर रहता है।

मधुमेह के आहार में पालक को कैसे शामिल करें
सर्दियों के लिए पालक एक बहुत अच्छी सब्जी है। यहां पालक की कई तरह की रेसिपी पहले से ही बनाई और खाई जाती हैं. इसका स्वाद भी अतुलनीय है. जहां तक ​​मधुमेह रोगियों की बात है तो वे इसे अच्छे से धोकर, ग्राइंडर में पीसकर, जूस बनाकर पी सकते हैं। इसके अलावा आप पालक को हल्का भूनकर सैंडविच में भी डालकर खा सकते हैं.