Sunday , June 23 2024

बुध शुक्र अस्त: बुध और शुक्र हुए अस्त, 4 राशियों को होगा फायदा लेकिन इन बातों का रखना होगा ध्यान

बुद्ध शुक्र अस्त: जून माह में ग्रहों की स्थिति में कई बदलाव होने वाले हैं जिसकी शुरुआत हो चुकी है। वृषभ राशि में ग्रहों की विशेष युति बन रही है। साथ ही दो शुभ ग्रहों का अधिकार भी सूर्य ने ले लिया है यानी ये शुभ ग्रह अस्त हो गए हैं। इस समय शुक्र और बुध दोनों ग्रह अस्त अवस्था में हैं। शुक्र और बुद्ध के अस्त होने से सभी पर पड़ेगा असर. 

शुक्र वृषभ और तुला राशि का स्वामी ग्रह है। बुध मिथुन और कन्या राशि पर भी शासन करता है। इन दोनों ग्रहों के अस्त होने से प्रत्येक राशि पर असर पड़ेगा। तो आइए आपको बताते हैं कि बुध और शुक्र से किस राशि को फायदा होगा।

 

TAURUS

वृषभ राशि में ग्रहों की युति बनी है. उसमें इस राशि के स्वामी ग्रह की शक्ति कम हो गई है और सूर्य की शक्ति बढ़ गई है। इसलिए इस राशि के जातकों को अति आत्मविश्वास से बचना चाहिए। साथ ही इस दौरान लोगों को नशीले पदार्थों का सेवन करते समय सावधानी बरतनी चाहिए, स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। सरकारी कार्य करने के लिए भी यह समय उपयुक्त नहीं है। परिवार में माता-पिता का सम्मान करें. ऑफिस में किसी महिला कर्मचारी से अनफ्रेंड न हो जाएं, इसका ध्यान रखें। उधार लेने से बचें. 

 

मिथुन राशि 

मिथुन राशि वालों के लिए यह समय अच्छा रहेगा। यात्रा संबंधी कार्य अच्छे रहेंगे। कुछ उपहार भी मिल सकते हैं जो भविष्य में लाभ पहुंचाएंगे। यह खरीदने का समय है. यदि आप भूमि या भवन से संबंधित कोई कार्य करना चाहते हैं तो कर सकते हैं। भाई-बहनों का स्वास्थ्य गड़बड़ा सकता है इसलिए सतर्क रहें। अगर आप बचत के लिए पैसा रखने की सोच रहे हैं तो सरकारी योजना से आपको फायदा होगा। इस समय जरूरी काम भूल गए तो परेशानी होगी। 

 

कन्या 

कन्या राशि वालों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पार्टनर के साथ अनबन न हो। इस समय आपस में विवाद हो सकता है। यह समय यात्रा को बढ़ाने वाला साबित होगा। यदि आप धार्मिक यात्रा की योजना बना रहे हैं तो यह समय शुभ है। कोई महत्वपूर्ण कार्य हो तो बड़ों के सहयोग से कार्य करें। 

 

तुला 

इस राशि का स्वामी ग्रह शुक्र है, लेकिन फिलहाल शुक्र अस्त चल रहा है, इसलिए इस राशि के जातकों को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना चाहिए। आत्मविश्वास कमजोर हो सकता है. क्षणिक क्रोध भड़क सकता है। मन को शांत करने के लिए ध्यान करें। इस दौरान आपको सफल होने के लिए अधिक मेहनत करनी होगी। यदि आप भाग्य पर भरोसा करेंगे तो आप पीछे रह जायेंगे। पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें. चिंता व क्रोध रोग को निमंत्रण देंगे। इसलिए क्रोध से बचें.