Wednesday , November 30 2022
Home / उत्तर प्रदेश / बिना फायर एन0ओ0सी के धड़ल्ले से संचालित हो रहे है अवैध अस्पताल

बिना फायर एन0ओ0सी के धड़ल्ले से संचालित हो रहे है अवैध अस्पताल

फायर एन0ओ0सी0 न होने के चलते सीएमओ ने 21 अस्पतालों को थमाई थी नोटिस

फायर एन0ओ0सी न होने के कारण अस्पतालों के नवीनीकरण के आवेदन के दौरान सीएमओ ने पंजीकरण निरस्त करते हुऐ थामाई थी नोटिस

उन्नाव ।
जनपद में फायर एनओसी न होने के कारण 21 अस्पतालों के पंजीयन नवीनीकरण के दौरान सीएमओ ने 21 अस्पतालों का पंजीकरण अग्रिम आदेशों तक निरस्त कर दिया था एवं यह सुनिश्चित किया था कि जब तक फायर एन0ओ0सी 0नहीं प्राप्त कर लेते हैं तब तक वह अपने प्रतिष्ठान बंद रखेंगे। अगर इस दौरान प्रतिष्ठान खुला पाया गया तो उनके विरुद्ध विधिक कार्यवाही की जाएगी।जिन -जिन अस्पतालों को नोटिस थमाई गई थी उनमे अधिकांश नोटिस मिलने के बाद से लगातार संचालित हो रहे है जब फायर विभाग से 21 अस्पतालों के बारे में जानकारी प्राप्त की गई तो अग्निशमन अधिकारी द्वारा बताया गया कि अभी तक किसी ने भी फायर एन0ओ0सी प्राप्त नही की है।लखनऊ के होटल में हुए अग्निकांड के हादसे के बाद सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने बिना फायर एन0ओ0सी के संचालित हो रहे भवनों/ प्रतिष्ठानों के विरुद्ध कार्यवाही के आदेश दिए थे लेकिन उन्नाव में स्वास्थ्य विभाग के जिमेदार अपनी सेटिंग -गेटिंग की नीति के चलते सिर्फ सिर्फ खानापूर्ति करके सूबे के मुखिया के आदेशों की खुलेआम धज्जिया उड़ा रहे है।ऐसे मानक विहीन अस्पतालों को खुलेआम छूट देकर अस्पताल आए हुए मरीजो एवं उनके स्वजनों की जिंदगियों के साथ खिलवाड़ किया जाता है। जब भी मानकविहीन अस्पतालों के बारे में जिम्मेदार अधिकारियो से बात करने का प्रयास किया जाता है तो वही रटा रटाया बयान दे दिया जाता है कि कार्यवाही की जाएगी लेकिन जब कार्यवाही करने की बात आती है तो मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया है।
जनपद में तमाम ऐसे अस्पताल है जो बिना लाइसेंस के भी संचालित हो रहे है। अगर ऐसे अस्पतालों में भीषण अग्निकांड हो जाए तो इसमें काफी जनहानि भी हो सकती है। मानकविहीन अस्पतालों के विरुद्ध उन्नाव का स्वास्थ विभाग कार्यवाही करने से पीछे हटेगा तो किसी भी वक्त कोई बड़े हादसे के बाद पछतावे के सिवा कुछ न होगा। इस बारे में जब फायर विभाग के अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि अधिकांश अस्पतालों के पास फायर एन0ओ0सी नही है। यह सब अवैध तरीके से संचालित हो रहे है।

21 निजी अस्पतालों की लिस्ट जिनको थमाई गई थी नोटिस-

अभिषेक हास्पिटल आशाखेडा, अपना हास्पिटल बीघापुर, अपोलो हास्पिटल बीघापुर, आस्था हास्पिटल दही चौकी, बीएन हास्पिटल कांशीराम कालोनी, सीपी मेमोरियल नर्सिंगहोम गांधीनगर, चरक मेडिकल सेंटर, कृष्णा मेडिकल सेंटर गदनखेडा, महक हास्पिटल उन्नाव, मिर्जा चेरिटेबल हास्पिटल सहजनी, नंदिनी हास्पिटल एण्ड मैटरनिटी सेंटर, नारायण हास्पिटल, न्यू शिव हास्पिटल पीडी नगर, पीएल वर्मा हास्पिटल, पल्स हास्पिटल गदनखेडा, सहारा हास्पिटल सफीपुर, पूजा हास्पिटल पीडी नगर, श्रीसाई हास्पिटल पीतांबर नगर, शुभनयन हास्पिटल कांशीराम, सर्जिकल हास्पिटल सोहरामऊ, सुषमा हास्पिटल पीडी नगर उन्नाव का रजिस्ट्रेशन निरस्त किया था। सीएमओ डॉ सत्यप्रकाश ने बताया था कि मानक पूरे न होने पर रजिस्ट्रेशन अग्रिम आदेशों तक निरस्त किया गया है। आगे की कार्रवाई की जा रही है।

रिपोर्ट:योगेंद्र गौतम

Check Also

फिरोजाबाद : मकान में लगी भीषण आग, परिवार फंसा

फिरोजाबाद, 29 नवम्बर (हि.स.)। जसराना के कस्बा पाढ़म स्थित एक मकान में मंगलवार रात शॉट ...