Wednesday , February 21 2024

बालिका गृह से फरार हुई तीन किशोरियों के मामले में संचालिका और अधीक्षका के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मुरादाबाद, 08 नवम्बर (हि.स.)। मुरादाबाद के थाना सिविल लाइंस क्षेत्र के मोरा की मिलक में स्थित बालिका गृह से मंगलवार शाम तीन किशोरियों के भागने के मामले में बुधवार को थाना पुलिस ने जिला प्रोबेशन अधिकारी की तहरीर के आधार पर बालिका गृह संचालिका और अधीक्षिका के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली। इस घटना से बालिका गृह में हड़कंप मच गया था। काफी देर तक कर्मचारियों ने उनकी तलाश की, लेकिन कही पता नहीं चला था। आज सुबह में घटना की सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंच कर जांच पड़ताल करने के बाद सिविल लाइंस पुलिस भी किशोरियों की तलाश शुरू कर दी है।

जिला प्रोबेशन अधिकारी अनुराग श्याम रस्तोगी ने सिविल लाइंस पुलिस को तहरीर देकर बताया कि मोरा की मिलक में भारतीय उत्कृष्ट सेवा समिति द्वारा बालिका गृह का संचालन किया जा रहा है। बाल कल्याण समिति के आदेश पर इसमें मुरादाबाद के अलावा मंडल के अन्य जिलों की भी किशोरियों को रखा जाता है। वर्तमान में करीब 40 किशोरियां इस बालिका गृह में हैं। बताया गया कि मंगलवार देर शाम इस बालिका गृह के पिछले दरवाजे का ताला तोड़कर तीन किशोरियों भाग निकली। भागने वाली किशोरियों में संभल जिले के असमोली थाना क्षेत्र की 15 वर्षीय किशोरी, बनियाठेर की करीब 12 वर्षीय किशोरी के साथ ही मुरादाबाद जिले के भगतपुर थाना क्षेत्र निवासी 15 वर्षीय किशोरी शामिल हैं।

बताया कि दो किशोरियां करीब दो महीने से बालिका गृह में थीं, जबकि एक किशोरी एक महीने पहले ही आई थी। उसका बाल विवाह टास्क फोर्स ने रुकवा दिया था। इसके बाद भी किशोरी दूसरे समुदाय के युवक के साथ शादी करने पर अड़ गई थी, जबकि परिजन शादी कराने को तैयार नहीं थे। बाद में किशोरी को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया तो जहां से उसे बालिका गृह में भेजा गया था।

इस संबंध में सीओ सिविल लाइंस अर्पित कपूर ने बताया कि जिला प्रोबेशन अधिकारी की तहरीर पर बुधवार को बालिका गृह का संचालन करने वाली आरती चौहान और अधीक्षक सुनीता चौहान के खिलाफ आईपीसी की धारा 223 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। सीसीटीवी फुटेज की मदद से किशोरियों की तलाश की जा रही है। इसके लिए पुलिस की दो टीमें लगाई गई हैं। सीओ ने कहा कि कुछ सुराग मिले हैं, जल्द ही किशोरियों को बरामद कर लिया जाएगा।