Wednesday , May 22 2024

झड़ते बालों के लिए जीवनरक्षक हैं ये जड़ी-बूटियाँ, आयुर्वेद से जानें इनके फायदे

बालों का झड़ना आज जितना आम हो गया है, इसका इलाज उतना ही मुश्किल है। खान-पान और तनावपूर्ण जीवनशैली से लेकर गलत उत्पादों के इस्तेमाल तक, बालों के झड़ने के लिए कई कारण जिम्मेदार हैं। ऐसे में गिरते बालों के लिए आप चाहे कितने भी हेयर केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें, सभी बेअसर साबित होते हैं। ऐसे में आखिरी और सबसे सुरक्षित विकल्प प्राकृतिक उपचार ही बचता है… और जब बात प्राकृतिक उपचार की हो तो आयुर्वेद से बेहतर क्या हो सकता है?

यहां हम आपको ऐसी ही कुछ जड़ी-बूटियों (Ayurvedic Herbs for बाल झड़ने के लिए) के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें आयुर्वेद में बालों के लिए जीवनरक्षक माना जाता है। इनके इस्तेमाल से न सिर्फ बालों को झड़ने से रोका जा सकता है, बल्कि ये बालों को खूबसूरत और स्वस्थ बनाए रखने में भी मददगार साबित होते हैं। आपको बता दें कि हमने इस बारे में आयुर्वेदाचार्य संदीप उपाध्याय से बात की है और उनसे मिली जानकारी यहां आपके साथ साझा कर रहे हैं। तो आइए जानें इन आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के बारे में…

ब्राह्मी

आयुर्वेद में ब्राह्मी को बहुत उपयोगी पौधा माना जाता है, जिसका उपयोग मानसिक समस्याओं के इलाज के साथ-साथ त्वचा और बालों को स्वस्थ रखने में भी कारगर साबित होता है। आपको बता दें कि एनाल्जेसिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण ब्राह्मी डैंड्रफ की समस्या को खत्म कर बालों को नई जिंदगी देती है। यह स्कैल्प को स्वस्थ बनाने के अलावा बालों को झड़ने से रोकता है और उनके विकास में मदद करता है।

उपयोग के लिए ब्राह्मी के पत्तों को पीसकर उसमें नारियल का तेल मिलाएं और सिर पर लगाएं। इस पेस्ट को कुछ देर के लिए बालों पर लगा रहने दें और फिर बालों को हल्के शैम्पू से धो लें। ऐसा आप हफ्ते में एक या दो बार कर सकते हैं।

Bhringraj

भृंगराज बालों के लिए बहुत उपयोगी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है। आपको बता दें कि भृंगराज में आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम जैसे खनिजों के साथ-साथ विटामिन डी और विटामिन ई भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। ऐसे में इससे तैयार तेल स्कैल्प और बालों की जड़ों में रक्त संचार को बेहतर बनाकर बालों के विकास में मददगार साबित होता है। भृंगराज बालों के रोमों को सक्रिय करता है, जिससे बाल अंदर से मजबूत होते हैं और टूटने से बचते हैं।

इसे इस्तेमाल करने के लिए भृंगराज की पत्तियों के पाउडर को गुनगुने नारियल तेल में मिलाकर बालों पर पेस्ट की तरह लगाएं। इस पेस्ट को कुछ देर तक बालों पर लगा रहने दें और फिर बाल धो लें।

करौंदा

बालों के लिए आंवला किसी संजीवनी से कम नहीं है। आंवले का अंदरूनी और बाहरी दोनों ही इस्तेमाल बालों के लिए फायदेमंद साबित होता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-बैक्टीरियल गुण बालों में डैंड्रफ और इंफेक्शन की समस्या से छुटकारा दिलाते हैं। इसमें मौजूद विटामिन सी और अन्य पोषक तत्व बालों के विकास में सहायक होते हैं।

के.एल

इसे इस्तेमाल करने के लिए आंवले के पाउडर को नारियल के तेल में मिलाकर पेस्ट की तरह बालों पर लगाएं या फिर आप ताजे आंवले को पीसकर उसका रस बालों में लगा सकते हैं.

एलोविरा

एलोवेरा भी बालों के लिए बहुत उपयोगी पौधा है जो बालों को पोषण देने के साथ-साथ उन्हें स्वस्थ रखने में भी मदद करता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गुण स्कैल्प को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। इसमें विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन ई के साथ-साथ अमीनो एसिड भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जिससे यह बालों के विकास में मदद करता है।

इसका इस्तेमाल करने के लिए आप ताजी पत्तियों से निकले एलोवेरा जेल को हेयर मास्क की तरह अपने बालों पर लगा सकते हैं। इस मास्क को बालों की जड़ों से सिरे तक लगाएं ताकि बालों को एलोवेरा का पूरा पोषण और नमी मिल सके। इस मास्क को आधे घंटे तक लगाकर रखने के बाद आप अपने सिर को सादे पानी से धो सकते हैं। आप चाहें तो एलोवेरा जेल में नारियल या जैतून का तेल भी मिला सकते हैं।

इन जड़ी-बूटियों के साथ-साथ नीम, अश्वगंधा और गुड़हल भी बालों के लिए बेहद असरदार जड़ी-बूटियां मानी जाती हैं। गौरतलब है कि प्राचीन समय में जब इतने सारे सौंदर्य उत्पाद नहीं थे, तब महिलाएं अपने बालों की देखभाल के लिए इन जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल करती थीं। देखा जाए तो सीमित संसाधनों के बावजूद भी इन जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल हर तरह की सौंदर्य और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचाने में मददगार साबित हुआ है। ऐसे में इसका उपयोग आज के समय में भी उतना ही उपयोगी और प्रभावी हो सकता है, बशर्ते इसका सही तरीके से उपयोग किया जाए।

हमें उम्मीद है कि स्वास्थ्य संबंधी यह जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित होगी।