Sunday , June 23 2024

चीन: अंतरिक्ष में चीन की ऊंची छलांग, चंद्रमा के अंधेरे हिस्से से मिट्टी लेकर भेजा अंतरिक्ष यान

चीन का चंद्र मिशन चांग ई-6 अब पृथ्वी पर लौट रहा है। जैसे ही एस्केंडर पृथ्वी पर उतरेगा, बीजिंग इतिहास रच देगा। आपको बता दें कि एस्केंडर मिट्टी और चट्टान के नमूने लेकर पृथ्वी पर लौट रहा है। एसेंडर एक ऐसा उपकरण है जो चंद्रमा की सतह से अपनी कक्षा में लौट आया है और अब वहां से नमूने लेकर पृथ्वी पर लौट रहा है।

गौरतलब है कि चीन की अंतरिक्ष एजेंसी सीएनएसए ने कहा कि इस यान को पिछले महीने लॉन्च किया गया था. जो दो दिन पहले यानी 2 जून को चंद्रमा के अंधेरे हिस्से पर उतरा था। चंद्र मिशन चांग ई-6 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सफलतापूर्वक उतरा। चीन का चंद्र लैंडिंग स्थल चंद्रमा का एक दूरस्थ क्षेत्र है। इस मिशन के साथ चीन ने अंतरिक्ष क्षेत्र में एक और बड़ी छलांग लगाई है. चीन की अंतरिक्ष एजेंसी, राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन का हवाला देते हुए मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि चांग ई-6 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर एटकेन बेसिन क्रेटर में उतरा। यह गड्ढा अब तक का सबसे बड़ा गड्ढा है.

चीनी विमान 25 जून को वापस लौटेगा

अब एस्केंडर मिट्टी और चट्टान के नमूने लेकर पृथ्वी पर लौट रहा है। चीन अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि चांगी-6 से नमूना ले जाने वाला एसेंडर 25 जून के आसपास चीन के इनर मंगोलिया क्षेत्र के रेगिस्तान में उतरेगा। यह अंतरिक्ष यान चंद्रमा पर जिस स्थान पर उतरा वहां का तापमान माइनस में रहता है। यह दुनिया में पहली बार होगा जब कोई देश चीन के अंधेरे पक्ष से नमूना लेकर पृथ्वी पर लौटेगा।

सूरज कभी नहीं चमकता

चीन का चांग’ई 4 मिशन 2019 में पहली बार चंद्रमा की सतह पर उतरा। अब चीन चांग’ई 6 मिशन के जरिए चंद्रमा की सतह से करीब दो किलोग्राम नमूने भी लाएगा। चांग’ई 6 लैंडर में ड्रिल करने और फिर नमूने लेने के लिए एक यांत्रिक भुजा स्थापित की गई है। चीनी मिशन 53 दिनों के लिए है और इसे 3 मई को लॉन्च किया गया था। चीनी मिशन इस मायने में भी खास है क्योंकि यह चंद्रमा के उस हिस्से पर उतरा है, जो हमेशा पृथ्वी से सबसे दूर होता है और जिस पर कभी सूरज की रोशनी नहीं पड़ती। ऐसे में इस क्षेत्र के नमूनों से वैज्ञानिक रूप से महत्वपूर्ण जानकारी मिलने की उम्मीद है.

चीन 2030 तक चंद्रमा पर मानव मिशन भेजेगा

नमूनों की जांच से पता चल सकता है कि चंद्रमा कैसे बना। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नेतृत्व में चीन का अंतरिक्ष कार्यक्रम तेजी से आगे बढ़ रहा है और अमेरिका और रूस से प्रतिस्पर्धा करने की कोशिश कर रहा है। अमेरिका ने चेतावनी दी है कि चीन का अंतरिक्ष कार्यक्रम सैन्य उद्देश्यों के लिए हो सकता है. चीन का लक्ष्य 2030 तक चंद्रमा पर मानव मिशन भेजने का है। अमेरिका 2026 में फिर से चंद्रमा पर मानव मिशन भेजने की भी योजना बना रहा है।