Wednesday , May 22 2024

घर से काम करते समय अधिकतम सफलता पाने के 7 वास्तु तरीके

हालिया महामारी के परिणामस्वरूप एक आमूल-चूल परिवर्तन आया है जिसमें कार्यबल काम करना पसंद करता है। दूरस्थ कार्य के बढ़ने के साथ, हम जानना चाहते थे कि क्या वास्तु के अनुसार गृह कार्यालय स्थापित करना संभव है और इससे हमारे पाठकों को क्या लाभ हो सकते हैं। हमने उत्तर भारत के प्रसिद्ध वास्तु सलाहकार और बिजनेस ज्योतिषी वास्तु आचार्य मनोज श्रीवास्तव से संपर्क किया। उन्होंने उदारतापूर्वक हमारे साथ 7 तरीके साझा किए जिनसे हम अपने गृह कार्यालय सेटअप में वास्तु सिद्धांतों का उपयोग करके अधिकतम सफलता प्राप्त कर सकते हैं। घर से काम करते समय अधिकतम सफलता प्राप्त करने में आपकी सहायता के लिए यहां सात वास्तु युक्तियाँ दी गई हैं।

  1. सही दिशा चुनेंकाम करते समय आप जिस दिशा का सामना करते हैं वह वास्तु में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अधिकतम उत्पादकता और सफलता के लिए, काम करते समय उत्तर या पूर्व की ओर मुख करने की सलाह दी जाती है। माना जाता है कि ये दिशाएं एकाग्रता बढ़ाती हैं और समृद्धि लाती हैं।
  2. अपनी डेस्क को ठीक से रखेंसुनिश्चित करें कि आपका डेस्क इस तरह से स्थित हो कि आपके ठीक पीछे कोई दरवाजा या खिड़की न हो। आपकी कार्य सीट के पीछे एक ठोस दीवार होना सबसे अच्छा है क्योंकि यह समर्थन और स्थिरता का प्रतीक है। सीधे बीम के नीचे बैठने से बचें क्योंकि इससे अनावश्यक तनाव हो सकता है।
  3. उपयुक्त रंगों का प्रयोग करेंआपके कार्यस्थल की रंग योजना आपके मूड और ऊर्जा को प्रभावित करती है। गृह कार्यालय के लिए हरा, नीला और सफेद जैसे हल्के रंग शुभ माने जाते हैं। हरा रंग रचनात्मकता को बढ़ा सकता है, नीला रंग शांत करता है और ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है, जबकि सफेद रंग स्पष्टता और ताजगी को बढ़ावा देता है।
  4. ऊर्जा बढ़ाने वाले तत्वों को शामिल करेंअपने गृह कार्यालय में विशिष्ट तत्व जोड़ने से वास्तु ऊर्जा को बढ़ावा मिल सकता है। वित्तीय विकास और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए अपने कार्यालय की उत्तर दिशा में एक पौधा लगाएं। इसके अलावा, सुनिश्चित करें कि ऊर्जा को जीवंत और सक्रिय बनाए रखने के लिए आपका कार्यस्थल अच्छी रोशनी वाला और हवादार हो।
  5. उपयुक्त छवियाँ चुनेंअपने कार्यालय में सही चित्र या मूर्तियाँ रखने से ऊर्जा का सकारात्मक प्रवाह प्रेरित हो सकता है और उसे बनाए रखा जा सकता है। वास्तु के अनुसार, अपने कार्यक्षेत्र में भगवान गणेश की तस्वीर लगाने से बाधाएं दूर हो सकती हैं और सौभाग्य प्राप्त हो सकता है। वास्तु आचार्य मनोज श्रीवास्तव का सुझाव है कि आप भगवान की तस्वीर या मूर्ति को अपने पीछे नहीं बल्कि सामने रखें। इसके अतिरिक्त, समृद्धि का प्रतीक चित्र, जैसे बहती नदी या सुनहरी मछली, भी फायदेमंद हो सकते हैं।
  6. व्यवस्थित करें और अव्यवस्था दूर करेंअव्यवस्थित कार्यस्थल सकारात्मक ऊर्जा को अवरुद्ध कर सकता है। अपने कार्य क्षेत्र को साफ-सुथरा एवं व्यवस्थित रखें। अनावश्यक फाइलों को नियमित रूप से साफ़ करें और अप्रयुक्त कागजात का निपटान करें। एक साफ जगह न केवल आपके दिमाग को साफ रखने में मदद करती है बल्कि सकारात्मक ऊर्जा को भी आकर्षित करती है।
  7. गृह कार्यालय का उचित स्थानवास्तु आचार्य मनोज श्रीवास्तव अक्सर देखते हैं कि घर के मालिक अपने घर में सबसे कम इस्तेमाल होने वाले कमरे को घर के कार्यालय में बदल देते हैं। गृह कार्यालय के लिए स्थान आवंटित करने का यह सही तरीका नहीं है। अपने घर के लेआउट के संदर्भ में, गृह कार्यालय बनाने के लिए उत्तर-पूर्व कक्ष, उत्तर कक्ष या पूर्व कक्ष का चयन करें। इन वास्तु युक्तियों को अपने गृह कार्यालय सेटअप में एकीकृत करके, आप एक ऐसा वातावरण बना सकते हैं जो आपकी उत्पादकता का समर्थन करता है और आपके लिए मार्ग प्रशस्त करता है। सफलता का मार्ग. याद रखें, एक सुव्यवस्थित और वास्तु-अनुरूप कार्यस्थल न केवल आपकी कार्य कुशलता को बढ़ाता है बल्कि आपके पेशेवर जीवन में समग्र कल्याण और सफलता में भी योगदान देता है।