Sunday , June 23 2024

घर की दीवार पर लगी घड़ी बदल सकती है किस्मत, जानें इसे लगाने के सही नियम

वास्तुशास्त्र में ऐसी कई बातों का जिक्र है जिसमें हम किसी भी वस्तु के सही स्थान और दिशा का जिक्र करते हैं। वास्तुकला और भवन निर्माण का एक प्राचीन भारतीय विज्ञान, यह सद्भाव और समृद्धि बनाए रखने के लिए घर में विभिन्न तत्वों के उचित स्थान पर दिशानिर्देश प्रदान करता है।

ऐसी ही एक वस्तु है दीवार घड़ी। वास्तु सिद्धांतों के अनुसार, घर पर दीवार घड़ी लगाने से आपके घर में ऊर्जा का प्रवाह प्रभावित हो सकता है, जो स्वास्थ्य, धन और समग्र कल्याण को प्रभावित कर सकता है।

यदि आप आसानी से सकारात्मक ऊर्जा बनाए रखना चाहते हैं तो आपको सकारात्मक ऊर्जा और सौभाग्य सुनिश्चित करने के लिए घर में हमेशा सही स्थान पर दीवार घड़ी लगानी चाहिए। आइए सेलिब्रिटी ज्योतिषी और वास्तु विशेषज्ञ डॉ. जय मदान से जानें घर में दीवार घड़ी लगाने की सही दिशा और जगह के बारे में।

दीवार घड़ी लगाने की सही दिशा
दीवार घड़ी जिस दिशा में लगाई जाती है वह घर की ऊर्जा को बहुत प्रभावित करती है, इसलिए आपको हमेशा सलाह दी जाती है कि दीवार घड़ी को सही दिशा में लगाएं। घर की उत्तर दिशा पर धन के देवता कुबेर का शासन होता है। इसलिए माना जाता है कि इस दिशा में घड़ी रखने से समृद्धि और आर्थिक उन्नति होती है। इसे प्रगति और विकास का प्रतीक भी माना जाता है, जो इसे व्यापारिक प्रतिष्ठानों और लिविंग रूम के लिए आदर्श बनाता है। यदि आप घर के लिविंग रूम की उत्तर दिशा में दीवार घड़ी लगाएंगे तो इससे पूरी ऊर्जा का संचार होगा।

क्या दीवार घड़ी पूर्व और पश्चिम दिशा में लगाई जा सकती है?
पूर्वी दिशा पर देवताओं के राजा इंद्र का शासन है। ऐसा कहा जाता है कि पूर्व दिशा में घड़ी लगाने से वहां के निवासियों के स्वास्थ्य और खुशहाली में वृद्धि होती है। यह दिशा शयनकक्ष और अध्ययन कक्ष के लिए विशेष रूप से लाभकारी है क्योंकि यह अच्छे स्वास्थ्य और शैक्षणिक सफलता को बढ़ावा देती है।

पश्चिम दिशा का संबंध जल के देवता भगवान वरुण से है, इसलिए यदि आप इस दिशा में दीवार घड़ियां लगाते हैं, तो यह सुनिश्चित करने के लिए नियमित रूप से उनकी जांच करना महत्वपूर्ण है कि वे ठीक से काम कर रहे हैं क्योंकि इस क्षेत्र में खराब घड़ियां पाई जाती हैं और स्थिरता बनी रहती है।

किस दिशा में दीवार घड़ी न लगाएं
वास्तु के अनुसार, दीवार घड़ी लगाते समय आपको कुछ दिशाओं से बचना चाहिए। इनमें सबसे प्रमुख है दक्षिण दिशा जिसे मृत्यु के देवता यम की दिशा माना जाता है। इस दिशा में घड़ी लगाना अशुभ माना जाता है, इससे आपको बाधाओं और चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। हालाँकि, यदि आप इस दीवार पर घड़ी लगाते हैं, तो ध्यान रखें कि इसका मुख उत्तर या पूर्व की ओर होना चाहिए।
इसके अलावा आपको दक्षिण-पश्चिम दिशा में दीवार घड़ी लगाने की भी मनाही है। यह दिशा सकारात्मक ऊर्जा को बाधित करती है और घर में नकारात्मकता लाती है।

दीवार घड़ी लगाने की सही जगह कौन सी है?
अगर आप घर में कहीं भी दीवार घड़ी लगा रहे हैं तो उसे एक निश्चित ऊंचाई पर रखना चाहिए। सुनिश्चित करें कि घड़ी आंख के सामने रखी हो ताकि वह आसानी से दिखाई दे। यह आपके जीवन में समय के महत्व को दर्शाता है और आपको इसके मूल्य के प्रति सचेत करता है।
जब आप किसी कमरे के मुख्य द्वार से प्रवेश करते हैं तो प्रवेश बिंदु पर दीवार घड़ी लगाना आपको समय के मूल्य की याद दिला सकता है। हालाँकि, आपको यह ध्यान रखना होगा कि इसे सीधे मुख्य द्वार की ओर न रखें क्योंकि इसका नकारात्मक प्रभाव हो सकता है।

  • दीवार घड़ी किस आकार की होनी चाहिए?
  • वास्तु विशेषज्ञों का कहना है कि छह से अठारह इंच व्यास वाली दीवार घड़ियां सर्वोत्तम मानी जाती हैं।
  • अगर आकार की बात करें तो सबसे अच्छी घड़ी गोल मानी जाती है और यह धन को आकर्षित करती है।
  • आप घर में पेंडुलम घड़ियाँ भी लगा सकते हैं, इससे समय पर चलने की आदत बनती है।
  • आप घर में अंडाकार और आठ भुजाओं वाली घड़ी भी लगा सकते हैं।
  • आपको कभी भी त्रिकोणीय आकार की दीवार घड़ी नहीं लगानी चाहिए, इससे आपके घर में अधिक झगड़े होते हैं।
  • शयन कक्ष में दीवार घड़ी लगाते समय इन बातों का ध्यान रखें
  • शयनकक्ष में कभी भी बंद घड़ी नहीं रखनी चाहिए। इससे नकारात्मक ऊर्जा एकत्रित होती है। अगर घड़ी खराब हो गई है तो उसे तुरंत ठीक करवा लें।
  • घड़ी को हमेशा सटीक समय या कुछ मिनट आगे दिखाना चाहिए। उल्टी दिशा में चलने वाली घड़ी शुभ नहीं मानी जाती है।
  • दीवार घड़ी का कांच का फ्रेम हमेशा साफ होना चाहिए।
  • घड़ी के चेहरे पर प्रसन्न भाव प्रदर्शित होने चाहिए। दीवार घड़ी के चारों ओर केवल प्रसन्नचित्त तत्व ही लगाने चाहिए।
  • मधुर संगीत बजाती घड़ी सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को मजबूत करती है।