Tuesday , April 16 2024

क्या पित्त पथरी होने से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है? चौंकाने वाला स्वास्थ्य अलर्ट!!

380799 Gallbladder

आजकल बहुत से लोगों को पित्त पथरी की समस्या है। इसके लिए कई कारण हैं। आज की भागदौड़ भरी दुनिया में कैंसर आम बात है। दोनों ही गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के रूप में उभर रहे हैं। कई लोग इस बात को लेकर असमंजस में हैं कि क्या दोनों के बीच कोई कनेक्शन है. लेकिन ये भी कहा जाता है कि इनके बीच कोई सीधा संबंध नहीं है.

बिरला हॉस्पिटल गुरुग्राम के मिनिमल एक्सेस एंड बेरिएट्रिक सर्जरी के निदेशक डॉ. मयंक मदान ने इस पर कुछ महत्वपूर्ण जानकारी दी है। उनका कहना है कि भोजन और पानी की कमी के कारण लोगों को पथरी की समस्या हो सकती है। पित्ताशय की पथरी एक गंभीर समस्या है। जिसमें मरीजों को पेट में तेज दर्द होता है। 

शरीर में होने वाली पथरी को दो प्रकार में बांटा जा सकता है। 

– पित्ताशय में पाए जाने वाले पहले प्रकार के पत्थर को ‘पित्ताशय’ कहा जाता है। 

– दूसरे प्रकार की पथरी किडनी में पाई जाती है। 

किडनी की पथरी मूत्र के माध्यम से निकल जाती है। लेकिन अगर पित्ताशय में पथरी (Gallbladderstones) हो तो पित्ताशय को निकालना जरूरी हो सकता है. जब पित्ताशय में कोलेस्ट्रॉल जमा हो जाता है, तो यह क्रिस्टलीय पत्थर में बदल जाता है और इसे ‘पित्त पथरी’ कहा जाता है।

कुछ मामलों में, पित्ताशय की पथरी वाले रोगियों में कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। उसके लिए यहां कुछ कारक दिए गए हैं:

1. उच्च रक्तचाप 

पित्ताशय की पथरी वाले लोगों को अक्सर उच्च रक्तचाप होता है। इससे कैंसर का खतरा बढ़ जाता है. उच्च रक्तचाप रक्तचाप को बढ़ावा देता है जिससे शरीर में कैंसर का विकास हो सकता है। इसलिए, पित्त पथरी के मरीज नियमित रूप से अपने डॉक्टर से संपर्क करके और अपने रक्तचाप की जांच करवाकर कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं। 

2. धूम्रपान

धूम्रपान और अत्यधिक शराब के सेवन से पित्ताशय और कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। ये दोनों ही शरीर के लिए हानिकारक आदतें हैं। इससे न सिर्फ पथरी का खतरा बढ़ता है बल्कि कैंसर होने का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए, शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए स्वस्थ जीवनशैली का पालन करना बहुत जरूरी है। 

3. आहार

अस्वास्थ्यकर भोजन खाने और सही समय पर भोजन न करने से पित्त पथरी का खतरा बढ़ जाता है, जो अंततः कैंसर के खतरे को बढ़ाता है। उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ, कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थ, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और फास्ट फूड कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं।

4. रोग

अत्यधिक शराब पीने, एचआईवी/एड्स जैसी कुछ बीमारियाँ और कुछ अन्य संचारी रोग पित्त पथरी और कैंसर दोनों के खतरे को बढ़ाते हैं। ये रोग शरीर की क्षमता और रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम कर देते हैं। इसलिए ऐसी बीमारियों से पीड़ित मरीजों का उचित इलाज कराना और समय-समय पर शारीरिक जांच कराना बहुत जरूरी है।