Wednesday , May 29 2024

इसरो: इसरो ने की चंद्रमा पर पानी की मौजूदगी की बात, जानें विस्तार से

भारत की जानी-मानी अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने चंद्रमा के रहस्यों को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है। इसरो वैज्ञानिकों द्वारा किए गए एक हालिया अध्ययन में चंद्रमा के ध्रुवीय गड्ढों में पानी की बर्फ होने की संभावना बढ़ने के प्रमाण मिले हैं। इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर रिमोट सेंसिंग जर्नल में प्रकाशित एक लेख के अनुसार। पहले चंद्र सतह के कुछ मीटर के भीतर सतह पर बर्फ चंद्रमा के पहले कुछ मीटर में सतह पर बर्फ की मात्रा उत्तरी और दक्षिणी दोनों ध्रुवीय क्षेत्रों में लगभग 5 से 8 गुना अधिक है। इस खोज का भविष्य के चंद्र अभियानों और चंद्रमा पर दीर्घकालिक मानव उपस्थिति के लिए महत्वपूर्ण प्रभाव है।
चंद्रमा की सतह पर बर्फ की खोज भविष्य में चंद्र जल की खोज के लिए गेम-चेंजर साबित हो सकती है। इस बर्फ का नमूना लेने या खुदाई करने के लिए चंद्रमा पर ड्रिलिंग भविष्य के मिशनों का समर्थन करने और चंद्र सतह पर जीवन की संभावना स्थापित करने के लिए महत्वपूर्ण होगी। इसके अलावा, अध्ययन से यह भी पता चलता है कि उत्तरी ध्रुवीय क्षेत्र में पानी की बर्फ की मात्रा दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र की तुलना में दोगुनी है।
चंद्रमा पर पानी ज्वालामुखी विस्फोट से आया होगा
चंद्रमा का यह अध्ययन इस परिकल्पना की पुष्टि करता है कि चंद्र ध्रुवों पर पानी की बर्फ का प्राथमिक स्रोत 3.8 से 3.2 अरब साल पहले इम्ब्रियन काल के दौरान ज्वालामुखी के दौरान उत्पन्न हुआ था। घाटी और मारिया (प्राचीन ज्वालामुखी विस्फोटों से बने अंधेरे, सपाट मैदान) का निर्माण तीव्र ज्वालामुखी गतिविधि से हुआ था। नतीजे यह भी निष्कर्ष निकालते हैं कि पानी की बर्फ ज्वालामुखीय प्रभाव के कारण हो सकती है।
अनुसंधान टीम ने चंद्रमा पर पानी की बर्फ की उत्पत्ति और वितरण को समझने के लिए नासा के लूनर रिकॉनिसेंस ऑर्बिटर (एलआरओ) पर सात उपकरणों का उपयोग किया, जिनमें रडार, लेजर, ऑप्टिकल, न्यूट्रॉन स्पेक्ट्रोमीटर, अल्ट्रा-वायलेट स्पेक्ट्रोमीटर और थर्मल रेडियोमीटर शामिल हैं। चंद्रमा पर पानी की बर्फ के निर्माण और वितरण को समझने के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान टीम ने नासा के ऑर्बिटर पर रडार, लेजर, पराबैंगनी स्पेक्ट्रोमीटर और थर्मल रेडियोमीटर सहित सात उपकरणों का उपयोग किया।
चांद पर पानी मिलने की घटना अद्भुत है
चंद्रमा के ध्रुवों पर पानी की बर्फ की यह घटना बहुत महत्वपूर्ण है। क्योंकि इससे चंद्रमा पर भविष्य में जीवन की संभावना के साथ-साथ इसरो के भविष्य की खोज और लक्षण वर्णन मिशनों के लिए भविष्य की लैंडिंग और नमूनों का चयन करने में मदद मिलेगी। इस अध्ययन के निष्कर्ष इसरो के पिछले अध्ययनों पर आधारित हैं। जिसमें चंद्रयान-2 के ध्रुवीय क्रेटर में पानी की बर्फ की मौजूदगी की संभावना जताई गई थी.