Sunday , April 21 2024

स्वाइन फ्लू ने बढ़ाई राज्य में चिंता, राजकोट जिले में 2 की मौत, दिखे ये लक्षण तो हो जाएं सावधान

8b7c90adb58159687b77ab32b591e9a6

स्वाइन फ्लू: प्रदेश में स्वाइन फ्लू के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. राजकोट जिले में स्वाइन फ्लू से 2 मरीजों की मौत हो चुकी है. जसदण के एक युवक की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई। तो वहीं कोटडा सांगणी में भी स्वाइन फ्लू से एक बच्ची की मौत हो चुकी है. राजकोट जिले में एक माह में स्वाइन फ्लू के 16 मरीज दर्ज होने से स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है. जेतपुर में स्वाइन फ्लू के पांच, धोराजी, लोधिका, पदधारी में एक-एक मामला सामने आया है। उपलेटा, जसदान, राजकोट तालुका में दो मामले सामने आए हैं।

गर्मी शुरू होने के साथ ही महामारी भी बढ़ गई है. मार्च के 25 दिनों में स्वाइन फ्लू के 380 मामले सामने आ चुके हैं। स्वाइन फ्लू के मामलों में गुजरात देश में चौथे स्थान पर है। गुजरात में स्वाइन फ्लू इस समय एक समस्या बन चुका है। महज तीन महीने में स्वाइन फ्लू के 360 मामले सामने आ चुके हैं। जिनमें से 15 लोगों की मौत हो चुकी है. अहमदाबाद में स्वाइन फ्लू के मामले सबसे ज्यादा हैं…अचानक स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग चिंतित है.

सर्दी की विदाई और गर्मी की शुरुआत के साथ ही सौराष्ट्र, मध्य गुजरात समेत इलाकों में भी महामारी ने दस्तक दे दी है. अहमदाबाद के सोला सिविल में दो हफ्ते में वायरल संक्रमण के तीन हजार 20 मामले सामने आए हैं. बच्चों में भी सर्दी-बुखार के मामले बढ़े हैं। लंबे समय तक लगातार खांसी की शिकायत अधिक होती है। प्रदेश में डेंगू, स्वाइन फ्लू, डायरिया-उल्टी, बुखार-खांसी समेत मामले काफी बढ़ गए हैं।

यह बीमारी पहली बार साल 1919 में देखी गई थी। भारत में स्वाइन फ्लू का पहला मामला साल 2009 में सामने आया था। विशेषज्ञों के मुताबिक एड्स और एचआईवी से पीड़ित मरीजों के लिए यह बीमारी ज्यादा खतरनाक हो जाती है।

स्वाइन फ्लू H1N1 वायरस के कारण होता है। यह एक श्वसन संक्रामक रोग है। हर साल बड़ी संख्या में लोग स्वाइन फ्लू का शिकार होते हैं। यह बीमारी सूअरों में पाए जाने वाले इन्फ्लूएंजा स्ट्रेन के कारण होती है। यह बीमारी पहली बार साल 1919 में देखी गई थी। वहीं, भारत में स्वाइन फ्लू का पहला मामला साल 2009 में सामने आया था। विशेषज्ञों के मुताबिक यह बीमारी एड्स और एचआईवी से पीड़ित मरीजों के लिए खतरनाक है। हालांकि प्राथमिक स्तर पर स्वाइन फ्लू के मरीजों का इलाज संभव है। अगर ध्यान न दिया जाए तो यह खतरनाक साबित हो सकता है। इस कारण स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखने पर सबसे पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है।

स्वाइन फूल के लक्षण

बुखार, सिरदर्द, कफ – थकान और कमजोरी – शरीर में तेज दर्द – सांस लेने में तकलीफ, गले में खराश, उल्टी, पेशाब में वृद्धि,