Saturday , August 13 2022
Home / विदेश / वनस्पति विज्ञान का सबसे पुराना प्रयोग:142 साल पहले बोतल में बंद कर जमीन में गाड़े 21 किस्म के बीज, हर 5 साल में निकालते हैं; पता चलेगी अंकुरण की वजह

वनस्पति विज्ञान का सबसे पुराना प्रयोग:142 साल पहले बोतल में बंद कर जमीन में गाड़े 21 किस्म के बीज, हर 5 साल में निकालते हैं; पता चलेगी अंकुरण की वजह

प्रो. मार्जोरी वेबर - Dainik Bhaskar

प्रो. मार्जोरी वेबर

अमेरिका में मिशिगन यूनिवर्सिटी के वनस्पति वैज्ञानिकों ने सालों पुराने बीज के अंकुरण की असल वजह का पता लगा लिया है। यहां दुनिया के सबसे पुराने प्रयोग में से एक आज भी चल रहा है। 142 साल पहले वनस्पति विज्ञानी प्रो. विलियम जेम्स बील ने यूनिवर्सिटी कैंपस में 20 बोतल में 21 अलग-अलग किस्म के बीज को भरकर जमीन में गाड़ दिया था।

इनमें काली सरसों, सफेद तिल, तिनपतिया घास और कई तरह के सदाबहार पौधों के बीज शामिल हैं। प्रोफेसर हर पांच साल में इन बातलों में रखे गए हजारों बीज में से 5-5 बीज निकालकर उसे उगाते हैं और यह पता लगाते हैं कि सालों पुराने होने के बावजूद यह बीज अंकुरित हो पाते हैं या नहीं। कभी-कभी कई साल गुजर जाने के बाद भी यह अंकुरित नहीं होते हैं।

यूनिवर्सिटी के प्रोफेसरों ने 5 साल बाद बुधवार रात इसे प्रयोग के लिए फिर एक बार निकाला। दरअसल प्रो. बील ने साल 1879 में इस प्रयोग को इसलिए शुरू किया था, ताकि यह पता लगाया जा सके कि पौधे जमीन पर कितने समय तक अस्तित्व बनाए रख सकते हैं। साथ ही ऐसी क्या चीजें हैं, जो उन्हें जमीन में उगने के लिए प्रेरित करती हैं और क्यों कुछ बीज 50 सालों तक भी अंकुरित नहीं होते हैं।

प्रो. बील इन तीन प्रयोग के जरिए किसानों की मदद करना चाहते थे। प्रो. बील ने जब इस रिसर्च की शरूआत की थी, तब उसकी थ्योरी टीम को देकर गए थे। पहले कुछ सालों में के प्रयोगों के दौरान 10-15 साल बाद बीज अंकुरित हो गए थे।
बोतल रात में ही निकाली जाती है ताकि सूर्य की रोशनी से बीज पर न पड़े

यूनिवर्सिटी ने इस प्रयोग के लिए बीज रक्षक मिनिस्ट्री बनाई है। जिम्मेदारी युवा प्रोफेसरों को दी गई है। पहले बोतलों को हर 5 साल में निकाला जाता था, लेकिन अब 20 साल निकालते हंै। वह भी रात के अंधेरे में ताकि सूर्य की रोशनी इस पर न पड़े। ऐसा होने पर बीज बंद बोतल में भी अंकुरित हो सकते हैं।

खबरें और भी हैं…

Check Also

बांग्लादेशी जिहादी संगठन के दो सदस्य हिरासत में, स्लिपर सेल के रूप में करते थे काम

मोरीगांव (असम), 13 अगस्त (हि.स.)। बांग्लादेशी जिहादी संगठन अंसारुल बांग्ला टीम (एबीटी) के स्लिपर सेल ...