Sunday , May 19 2024

रमजान की उपेक्षा कर नवरात्र को अच्छे दिन कहने वाले अखिलेश को मिलेगा करारा जवाब: इमरान जहीर

कन्नौज, 05 अप्रैल (हि.स.)। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के कन्नौज सीट से उम्मीदवार इमरान बिन जफर ने शुक्रवार को पत्रकार वार्ता की। उन्होंने इस दौरान कहा कि रमजान की उपेक्षा कर नवरात्र को अच्छे दिन कहने वाले समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव को कन्नौज संसदीय क्षेत्र की जनता इस बार करारा जवाब देगी।

आम आदमी पार्टी छोड़कर बसपा में आये इमरान ने प्रत्याशी बनने के बाद पहली बार इत्र नगरी कन्नौज पहुंचे और यहां पर उन्होंने पत्रकारों को सम्बोधित किया। जफर ने कहा कि आज बहन मायावती को धन्यवाद देने आए है कि उन्होंने एक आम कार्यकर्ता को कन्नौज जैसी हॉट सीट से चुनाव मैदान में उतार कर मुकाबला करने का मौका दिया। बसपा उम्मीदवार ने कहा कि 2014 में वे परिवारवाद का विरोध करने के लिए मैदान में उतरे थे, लेकिन विफल रहे थे। 2019 में कन्नौज के एक व्यक्ति ने परिवारवाद, भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई तो जीती किन्तु सांसद बनकर भी सुब्रत पाठक वो सब नहीं कर सके जिसकी एक सांसद से अपेक्षा की जाती है। इस बार उनकी भी हालत खराब है।

इमरान ने याद दिलाया कि बसपा ने जब भी गठबंधन किया उसे निराशा ही हाथ लगी, इसलिए इस बार बसपा पूरी ताकत से अपनी दमखम के बलबूते मैदान में उतरी है। आत्मविश्वास से लबरेज इमरान जफर ने कहा कि बसपा के कैडर वोट, मुस्लिम मतदाताओं का उनमें विश्वास और सर्वजन समाज के समर्थन के चलते वे लोकसभा चुनाव कम से कम तीन लाख मतों के अंतर से जीतेंगे।

इमरान जफर ने कहा कि वे एक आम आदमी है और पार्टी के अनुशासित सिपाही भी। पूरे दस वर्ष बाद उन्हें पार्टी ने अवसर दिया है और वे पूरे दम खम के साथ चुनाव जीतकर दिखाएंगे। वार्ता के दौरान इमरान सपा और भाजपा दोनों पर समान रुप से हमलावर रहे और लगातार जीत का दावा करते रहे।

कन्नौज सीट पर जातीय मतदाताओं के आंकड़े और समीकरण

कन्नौज संसदीय सीट पर संख्या बल (मतदाता) की बात की जा तो यहां पर कुल 19 लाख 82 हज़ार 589 मतदाता हैं। कन्नौज संसदीय क्षेत्र में एक मोटे अनुमान के मुताबिक 31 प्रतिशत दलित और 18 फीसद अल्पसंख्यक मतदाता है। यह दोनों परम्परागत रूप से बसपा का वोट बैंक माने जाते हैं। ऊपर से सर्वसमाज वाली सोशल इंजीनियरिग भी अगर सक्रिय हो गयी तो यकीनन बसपा प्रत्याशी अन्य दलों के प्रत्याशियों के लिए एक बड़ी चुनौती बनकर चुनाव परिणाम में दिखाई देने की संभावना है।