Sunday , August 14 2022
Home / बिहार / मदद चाहिए तो माले के कोविड हेल्पलाइन पर कॉल करें:अस्पतालों में बेड, एंबुलेंस, ऑक्सीजन सहित दवा और भोजन के लिए अलग-अलग नंबर जारी

मदद चाहिए तो माले के कोविड हेल्पलाइन पर कॉल करें:अस्पतालों में बेड, एंबुलेंस, ऑक्सीजन सहित दवा और भोजन के लिए अलग-अलग नंबर जारी

  • सोमवार से PMCH, NMCH और AIIMS पटना में भी आइसा-RYA की टीमें सक्रिय रहेंगी
  • प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना मरीजों के मुफ्त इलाज की मांग CM को पत्र लिख कर की

कोरोना महामारी में विपक्ष भी आमलोगों की मदद में सामने आया है। भाकपा-माले ने पटना में कोविड हेल्पलाइन सेंटर शुरू किया है। पटना के छज्जूबाग स्थित माले विधायक दल कार्यालय में यह हेल्पलाइन सेंटर आरंभ किया गया है। यहां आइसा और इनौस के कार्यकर्ताओं ने कोविड मरीजों की हर संभव सहायता के लिए मोर्चा संभाला है। हेल्पलाइन सेंटर के बारे में जानकारी देते हुए आइसा नेता दिव्यम ने कहा कि हमारा हेल्पलाइन सेंटर 24 घंटों काम करेगा। तीन नंबर जारी किए जा रहे हैं। जिस किसी भी को सहायता की आवश्यकता होगी, वे इन नंबरों पर कभी भी संपर्क स्थापित कर सकते हैं। इन नंबरों पर वहाट्सएप के जरिए भी संपर्क किया जा कसता है।

सोशल मीडिया पर भी कर सकते हैं संपर्क
दिव्यम ने बताया कि सोशल मीडिया के जरिए भी हमसे संपर्क किया जा सकता है। इस खास काम के लिए एक नया ट्वीटर एकाउंट भी बनाया गया है – @CPIMLcovid_help और इसी नाम से फेसबुक ग्रुप का भी निर्माण किया गया है। कोई भी साथी अपनी जरूरतों के हिसाब से उपर्युक्त हैंडल के साथ टैग कर सकते हैं। ट्वीटर हैंडल के साथ बिहार के मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, आपदा विभाग के मंत्री, विभिन्न विभागों के सचिवों और पटना के DM को भी लगातार अपडेट देते रहेंगे। छज्जूबाग स्थित कोविड हेल्प सेंटर को आरंभ करने के मौके पर आइसा नेता दिव्यम के साथ-साथ भाकपा-माले की राज्य कमिटी के सदस्य व ऐक्टू के राज्य सचिव रणविजय कुमार, माले राज्य कमिटी की सदस्य और कोरस की संयोजक समता राय, आइसा नेता शाश्वत व रामजी प्रसाद भी उपस्थित रहे।

मोबाइल टीम भी बनाई गई
केंद्रीय हेल्पलाइन टीम में दिव्यम, समता राय, मासूम जावेद, आइसा नेता विकास, कार्तिक पासवान व मात्सी शरण रहेंगे। इस केंद्रीय टीम के अलावा सोमवार से PMCH, NMCH और AIIMS पटना में भी आइसा-RYA की टीमें सक्रिय रहेंगी, जो वहां कोविड मरीजों को आवश्यक सहायता प्रदान करेगी। यह टीम केंद्रीय टीम के साथ लगातार संपर्क में रहेगी। PMCH की टीम में इरफान व यूसुफ; NMCH में रामजी प्रसाद, केशव, जावेद तथा AIMS की टीम की कमान शाश्वत, अंजलि व साधुशरण के हाथ में होंगे। इनौस के नेता विनय कुमार के नेतृत्व में एक मोबाइल टीम का भी गठन किया गया है, जो तीनों सेंटरों में कार्यरत टीमों के साथ लगातार संपर्क में रहेगी और इन टीमों के लिए बैकअप का काम करेगी। टीम में उनके अलावा रवि व नीतीश रहेंगे।

माले ने लिखा CM को पत्र
भाकपा-माले ने CM को एक पत्र भी लिखा है। पार्टी के राज्य सचिव कुणाल ने इसे लिखा है। इसमें बताया है कि एक उच्चस्तरीय जांच टीम ने विगत दिनों पटना के NMCH, PMCH, AIMS, IGIMS और पटना जिले के अंतर्गत रेफरल अस्पतालों, PHC व आइसोलेशन सेंटर का दौरा किया और स्थिति की जमीनी सच्चाई समझने का प्रयास किया। जांच दल ने बुनियादी रूप से पाया कि सरकार की कोविड के दूसरे फेज से लड़ने की किसी भी प्रकार की कोई तैयारी थी ही नहीं, जबकि इस बार कोविड का हमला तेज है और सरकार की पहलकदमी पहले की तुलना में भी कमजोर है। पत्र में आरोप लगाया गया है कि जांच दल ने महसूस किया कि कोविड महामारी से निपटने में अख्तियार की गई सरकार की दिशा सही नहीं है।

पत्र में दिए ये सुझाव

  • सरकार युद्धस्तर पर काम करे
  • जिला और उससे नीचे के अस्पतालों में डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों की नियमित उपस्थिति हो
  • डॉक्टर सहित तमाम तरह के स्वास्थ्यकर्मियों के सृजित पदों पर अविलंब बहाली की जाए
  • इन अस्पतालों में आधारभूत संरचनाओं जैसे बिजली, आवश्यक दवाइयों, बेड, ऑक्सीजन, ICU, एंबुलेस और अन्य जरूरी उपकरण पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हों
  • जिला अस्पताल में कम से कम 100 वेंटीलेटर की व्यवस्था की जाए
  • सरकार अपना संजीवन ऐप हर 6 घंटे पर अपडेट करती रहे, ताकि आम लोगों को बेड की उपलब्धता की जानकारी आसानी से मिलती रहे
  • होम क्वारंटाइन में रह रहे कोविड मरीजों के लिए सरकार थर्मामीटर, ऑक्सीमीटर और दवाइयों की मुफ्त व्यवस्था करे
  • वैक्सीनेशन केंद्रों पर भारी भीड़ के मद्देनजर इस सेवा का विस्तार किया जाए
  • PMCH,NMCH, IGIMS,AIIMS में ऑक्सीजन युक्त 500 बेड व कम से कम 100 वेंटीलेटर की उपलब्धता की गारंटी की जाए
  • प्राइवेट अस्पतालों पर सरकार निगरानी रखे। कोविड मरीजों के इलाज का संपूर्ण खर्च सरकार खुद वहन करे
  • जिला स्तर पर RTP-CR जांच की व्यवस्था का विस्तार किया जाए। 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट देने की व्यवस्था की जाए और टेस्टिंग की संख्या बढ़ाई जाए

खबरें और भी हैं…

Check Also

लालची राजनीति के खिलाफ पूर्व उपमुख्यमंत्री ने बिहार की महागठबंधन सरकार पर साधा निशाना

बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली महागठबंधन सरकार के खिलाफ बीजेपी आक्रामक हो गई ...