Tuesday , August 16 2022
Home / विदेश / भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट:टीके से 80% मौतें घटीं, 6 करोड़ आबादी वाले ब्रिटेन में 1879 मरीज ही अस्पताल में

भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट:टीके से 80% मौतें घटीं, 6 करोड़ आबादी वाले ब्रिटेन में 1879 मरीज ही अस्पताल में

ब्रिटेन में भारत से आने वाले लोगों के लिए रेड लिस्ट यात्रा प्रतिबंध शुरू हो गया है, प्रतिबंध शुरू होने से पहले हजारों भारतीय ब्रिटेन पहुंचे। - Dainik Bhaskar

ब्रिटेन में भारत से आने वाले लोगों के लिए रेड लिस्ट यात्रा प्रतिबंध शुरू हो गया है, प्रतिबंध शुरू होने से पहले हजारों भारतीय ब्रिटेन पहुंचे।

  • यूरोप में सबसे ज्यादा प्रभावित ब्रिटेन ने कैसे रोका संक्रमण

एक साल के सख्त श्रृंखलाबद्ध और सुनियोजित लॉकडाउन के बाद ब्रिटेन खुली हवा में सांस लेने के लिए तैयार है। महामारी से उबर रहे ब्रिटेन के लोगों के लिए यह एहसास सुखद सपने के पूरा होने जैसा ही है। अच्छी खबर यह है कि दूसरी लहर के दौरान सबसे संक्रमित रहे इंग्लैंड के व्यस्ततम एनएचएस के सिर्फ 6.4% बेडों पर कोरोना मरीज हैं। दूसरी लहर के पीक के दौरान यहां 60% बेड भरे थे। कमोबेश यहां के ज्यादातर अस्पतालों में क्षमता के सिर्फ 5% ही मरीज हैं। अब यहां 610 लोगों में एक कोरोना संक्रमित मिल रहा है। बीते हफ्ते 480 में एक संक्रमित था।

ब्रिटेन में बीते साल 10 सितंबर के बाद पहली बार सक्रिय मरीजों की संख्या एक लाख से कम रह गई है। विशेषज्ञों का मानना है कि सख्ती से सोशल डिस्टेंसिंग की पालना, जहां तक संभव हो… वहां वर्क फ्रॉम होम, स्कूलबंदी, दृढ़ और सफल टीकाकरण अभियान ने संक्रमण को कमजोर कर दिया है।

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड के ताजा डेटा के मुताबिक टीकाकरण ने हॉस्पिटलाइजेशन और कोरोना से होने वाली मौतें 80% तक घट गई हैं। यही नहीं, टीकाकरण की वजह से बिना लक्षण वाले संक्रमण में 70% और सिम्प्टोमैटिक संक्रमण में 90% कमी आई है।

उल्लेखनीय है कि महामारी शुरू होने से लेकर अब तक ब्रिटेन में कोरोना वायरस से 127,347 मौतें हो चुकी हैं और 4,398,431 संक्रमित हो चुके हैं। फिलहाल 99,228 सक्रिय मामले हैं। इनमें सिर्फ 1879 लोग अस्पताल में भर्ती हैं। ब्रिटेन आबादी के हिसाब से मौतों के मामलों में 11 सबसे प्रभावित और यूरोप का सबसे प्रभावित देश रहा है।

रेड लिस्ट यात्रा प्रतिबंध शुरू होने से पहले हजारों भारतीय ब्रिटेन पहुंचे, सुपर रिच 85 लाख किराया देकर चार्टर्ड प्लेन से पहुंच रहे

ब्रिटेन में शुक्रवार से भारत से आने वाले लोगों के लिए रेड लिस्ट यात्रा प्रतिबंध शुरू हो गए हैं। प्रतिबंध शुरू होने से पहले हजारों भारतीय ब्रिटेन पहुंचे। ये यात्री 5 गुना महंगा टिकट खरीदकर पहुंचे। भारत के सुपर रिच 10 हजार डॉलर प्रति घंटे यानी 75 हजार रु. किराया देकर चार्टर्ड प्लेन से ब्रिटेन पहुंच रहे हैं। 6000 मील की यात्रा 12 घंटे की है। यानी पूरा किराया 85 लाख।

17 मई से एक जगह 30 लोग जुट सकेंगे, जून तक सारी पाबंदी हट सकती हैं
ब्रिटेन में योजनाबद्ध तरीके से लॉकडाउन हटाया जा रहा है। जिम, सैलून खोल दिए गए है। इंग्लैंड में पब के बाहर बैठने की अनुमति है। संभव है 17 मई तक एक जगह पर 30 लोग को जमा होने की छूट मिल सकती है। सिनेमा, थियेटर व म्यूजियम खुल जाएंगे। जून के आखिर तक सामाजिक कार्यक्रमों में लगी लिमिट भी हटा ली जाएगी। नाइट क्लब भी खोल दिए जाएंगे।

4.3 करोड़ डोज लग चुकी, 50 प्लस उम्र के 95% लोगों को टीका लग चुका है
अब तक ब्रिटेन में 33,032,120 लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। इनमें से 10,425,790 लोग दूसरी डोज ले चुके हैं। कुल मिलाकर 43,457,910 डोज दी जा चुकी है। अब तक 50 साल के ऊपर के 95% लोगों का टीकाकरण हो चुका है। दक्षिण पूर्व में 50 साल से ऊपर की 97% आबादी को टीका लग चुका है। लंदन में इस आयु वर्ग के 87% लोगों को टीका लगा है।

स्कूल खुलने के बाद बढ़े केस से चेता ब्रिटेन, सख्ती दिखाई

  • मार्च 20 के आखिरी में लॉकडाउन लगाया। कोरोना प्रोटोकॉल लागू करने के लिए कानून बना पुलिस व सरकार को आपातकालीन शक्तियां दी गईं, जिसका इस्तेमाल दूसरे विश्वयुद्ध के बाद कभी नहीं हुआ था।
  • एनएचएस ने अस्थाई हॉस्पिटल बनाए व खुद को तैयार किया। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और टेस्टिंग की। इन कदमों का असर यह हुआ कि मई-जून में मृत्यु दर में कमी आई। जून-जुलाई में ढिलाई दी गई।
  • सितंबर में स्कूल खुले तो केस बढ़ेे। नवंबर में लॉकडाउन लगा। क्रिसमस सीजन में ढिलाई दी गई तो फिर केस बढ़ने लगे। जनवरी में फिर लॉकडाउन लगा। वैक्सीनेशन ने रफ्तार पकड़ी तो केस घट रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Check Also

अमेरिकी राष्ट्रपति व विदेश मंत्री ने दी भारतीय स्वतंत्रता दिवस पर बधाई

वाशिंगटन, 15 अगस्त (हि.स.)। भारत के 76वें स्वतंत्रता दिवस पर अमेरिकी राष्ट्रपति व विदेशमंत्री ने ...