Saturday , August 13 2022
Home / धर्म / धार्मिक टैटू बनवाते समय आकृति का रखें विशेष ध्यान

धार्मिक टैटू बनवाते समय आकृति का रखें विशेष ध्यान

53395670

आज की युवा पीढ़ी स्टाइलिश दिखने के लिए अपने शरीर पर टैटू बनवाती है। पर क्या आपको पता है की टैटू सिर्फ हमारे शरीर की सुंदरता ही नहीं बढ़ाते हैं बल्कि इनका धार्मिक महत्व भी होता है। शरीर पर बने हुए टैटू मन और जीवन पर सीधा असर डालते है।

 

टैटू बनवाने का धार्मिक महत्व:

शरीर पर कोई धार्मिक चिह्न का टैटू बनवाते है तो उसका असर आपके मन पर होता है। जैसे अगर आप अपने शरीर पर ओम या स्वास्तिक का टैटू बनाते है तो ये तभी असर करेगा जब टैटू की सही आकृति बनाई गई हो। सही आकृति में बनाया गया टैटू बनाने से आपका मन प्रसन्न रहेगा, कॉन्फिडेन्स बढ़ेगा, काम बनेंगे, सफलता मिलेगी।

हो सकता है नुकसान:

लेकिन अगर टैटू बनाते वक़्त कुछ नया करने के चक्कर में अगर ओम या स्वास्तिक की आकृति को बिगाड़ दिया जाये तो ये फायदे की जगह नुकसान पहुंचा सकते है। ऐसे टैटू का निगेटिव प्रभाव आपके मन पर, शरीर पर और व्यवहार पर आना तय है।

ऐसे टैटू बनाने से सबसे पहले इसका असर मन पर होता है, उसके बाद मन में निगेटिव सोच बढ़ सकती है। अचानक आप टेंशन में रहने लग सकते हैं। अचानक आपका व्यवहार बदलने लग सकता है।

Check Also

फुलकजलि एक व्रत है जो कुंवारी कन्या को मनचाहा देता है वरदान

कजरी त्रिज के अवसर पर विशेष रूप से मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और बिहार ...