Thursday , July 25 2024

टूटी हड्डियों को जोड़ देता है ये पौधा..! क्या आप जानते हैं इसके उपयोग?

बड़े-बुज़ुर्ग जब बात करते हैं तो कहते हैं कि घर के पिछवाड़े के पौधे दवा नहीं होते। यही विचार है कि पिछवाड़े में लगा पौधा आपकी मदद नहीं कर सकता है। लेकिन हमारे पिछवाड़े में पाए जाने वाले कई पौधे और पौधे हमारे स्वास्थ्य को कई लाभ पहुंचाएंगे। यह विडम्बना है कि हमें इसके बारे में जानकारी नहीं है।

हमारे आयुर्वेद में बताए गए कई उपचारों का समाधान हमारे घर के पास मौजूद कई औषधीय गुणों वाले पौधे ही करेंगे। ऐसे पौधों में यह पौधा मंगरावली, मंगरा वल्ली या संदु वल्ली के नाम से जाना जाता है।

इस मंगरावली पौधे का नाम आपने भी सुना होगा। आर्युवेद में इस पौधे का बहुत महत्व है। क्योंकि इस पौधे में कई स्वास्थ्यवर्धक गुण मौजूद होते हैं। तो फिर इस पौधे का हमारे लिए क्या उपयोग है? आइए जानते हैं इसका उपयोग किस बीमारी के लिए किया जाता है।

इस पौधे के उपयोग जानने से पहले यह जान लें कि यह पौधा कहां पाया जाता है। यह पौधा कठोर स्थानों अर्थात पानी रहित सूखी और पथरीली जगहों पर देखा जा सकता है। उन्हें बढ़ने के लिए पानी की आवश्यकता नहीं होती और उनमें कांटे होते हैं। ऐसा लगता है कि हमारी पीठ पच्चर के आकार की है। यह एक छड़ीनुमा संरचना छोड़ता है और बीच में पत्तियाँ और छोटी फलियाँ होती हैं।

कुछ लोग इस पौधे को सजावट के लिए उगाते हैं, जबकि कुछ लोग नहीं जानते कि यह एक औषधीय पौधा है। इस पौधे के स्वास्थ्य लाभ यहां देखें।

यह गुण टूटी हुई हड्डी को जोड़ता है

आप हैरान हो सकते हैं, अगर आपके शरीर की कोई हड्डी क्षतिग्रस्त या टूट गई है, तो यह पौधा आपकी टूटी हुई हड्डी को ठीक कर सकता है। इसीलिए इसे सैंडू कॉर्ड कहा जाता है। वे इस पौधे के रस को जानते हैं और इसे टूटी हुई हड्डी पर लगाकर बांध देते हैं, साथ ही इस पौधे का काढ़ा बनाकर पीते हैं, ऐसा करने से कुछ ही दिनों में टूटी हुई हड्डी जुड़ जाती है। इस तरह ट्रांसप्लांट करने वाले डॉक्टर आज भी वही तरीका अपना रहे हैं।

कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने वाले गुण

इस पौधे की पत्तियों से बने चूर्ण या काढ़े का नियमित सेवन करने से आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रित रहेगा। साथ ही इसके सेवन से हड्डियां भी मजबूत होती हैं। यह पाचन के लिए भी अच्छा है. इससे एसिडिटी कम हो जाएगी.

खांसी और कफ से राहत

अगर आपको खांसी और कफ है तो इसका काढ़ा रामबाण इलाज है। क्योंकि खांसी और कफ कई कारणों से हो सकता है, खासकर गर्मियों में खांसी और कफ खतरनाक हो जाता है। इस प्रकार इसका काढ़ा खांसी और कफ से राहत दिलाएगा।

इसे घर पर कैसे लगाएं?

ये पौधे आपको नर्सरी में मिल जाएंगे। प्रत्येक बीज भी एक पौधे में परिवर्तित हो जाता है। इसे सामान्य गमले में उगाया जा सकता है। इसे कम पानी की आवश्यकता होती है और यह अच्छी रोशनी वाले क्षेत्रों में उगता है।