Wednesday , May 29 2024

चैत्र नवरात्रि के चौथे दिन देवी कुष्मांडा की पूजा करें, यह आहुति देने से पुण्य की प्राप्ति होती

नवरात्रि का चौथा दिन माता दुर्गा के भव्य रूप माता कुष्मांडा को समर्पित है। इस साल चैत्र नवरात्रि का चौथा दिन यानी चतुर्थी तिथि 12 अप्रैल शुक्रवार को है। मां कुष्मांडा के भव्य और सुंदर स्वरूप की पूजा करने से कई कष्ट दूर हो जाते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, मां कूष्मांडा की हंसी की एक झलक से संपूर्ण ब्रह्मांड की रचना हुई थी।

मां कुष्मांडा का स्वरूप अत्यंत भव्य है

देवी का यह रूप सुंदर और भव्य है। माता कुष्मांडा का वाहन सिंह है। आठ भुजाओं में अलग-अलग वस्तुएं धारण करने के कारण इन्हें अष्टभुजा देवी भी कहा जाता है। इसमें उनके एक हाथ में कमंडल, एक हाथ में धनुष-बाण, एक हाथ में कमल, एक हाथ में शंख, एक हाथ में चक्र, दूसरे हाथ में गदा और सभी सिद्धियों को सिद्ध करने वाली माला है। एक हाथ में मां का अमृत कलश भी है, जो कृपा बरसा रहा है।

माता कुष्मांडा का मंत्र क्या है?

इस विशेष मंत्र से जाप करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। तो जानिए मंत्र.

वह देवी जो समस्त प्राणियों में माँ कुष्मांडा के रूप में स्थित हैं।

“उसे प्रणाम, उसे प्रणाम, उसे प्रणाम!”

इस प्रकार करें देवी कुष्मांडा की पूजा

देवी कुष्मांडा की पूजा करने के लिए उनकी तस्वीर को चौकी पर स्थापित करें। इसके बाद रोली, अक्षत, पीले फूल, पीले वस्त्र चढ़ाएं। देवी कुष्मांडा को कद्दू का भोग लगाएं। कुम्हड़ बलि देवी मां को प्रिय है। इसके अलावा उनकी पूजा में ऊं बुं बुधाय नम: का जाप करें और सौंफ के साथ हरी इलायची भी चढ़ाएं। बेहतर होगा कि आप अपनी उम्र के अनुसार ही मां को इलायची का भोग लगाएं। पूजा के बाद माता को समर्पित एक इलायची को साफ हरे कपड़े में बांध लें, इसे नवरात्रि तक अपने पास रखें। ऐसा करने से सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है।

पीले वस्त्र धारण करें

-नवरात्रि के चौथे दिन पीले वस्त्र धारण करें और फिर मां कुष्मांडा की पूजा करें। माता को पीला रंग प्रिय है. साथ ही शांत मन से मां कुष्मांडा की पूजा करें।

यह बलि मां को अर्पित करें

माता कुष्मांडा को मालपुए का भोग लगाना चाहिए। ऐसा करने से देवी मां प्रसन्न होती हैं।