Tuesday , August 16 2022
Home / हेल्थ &फिटनेस / गाय, भैंस, बकरी का दूध तो आपने खूब पीया होगा… अब 8 नए टाइप के Milk के बारे में जान लीजिए

गाय, भैंस, बकरी का दूध तो आपने खूब पीया होगा… अब 8 नए टाइप के Milk के बारे में जान लीजिए

दूध हमेशा से एक पौष्टिक आहार माना जाता है. जन्म के बाद मां का दूध और फिर कुछ महीने बाद से लेकर बुजुर्गावस्था तक हम गाय, भैंस वगैरह के दूध का सेवन करते हैं. बच्चों से लेकर बूढ़ों तक के लिए दूध बहुत फायदेमंद होता है. यह कैल्शियम, प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों का भरपूर स्रोत होता है. लेकिन बहुत सारे लोगों को दूध पसंद नहीं होता है. कुछ लोगों को तो गाय या भैंस के दूध से एलर्जी भी होती है.

आपने गाय और भैंस के अलावा और कितने तरह के दूध का सेवन किया है? हो सकता है, आपने बकरी के दूध का भी सेवन किया हो! कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं में आयुर्वेदाचार्य बकरी के दूध का सेवन करने की सलाह देते हैं. सामान्य तौर पर भी काफी लोग बकरी का दूध पीते हैं. वहीं, जिन इलाकों में भेड़ पालन होता है, वहां लोग उनके दूध का भी सेवन करते हैं.

लेकिन गाय, भैंस, भेड़, बकरी वगैरह के अलावा भी कई तरह के दूध होते हैं. आपको जानकर थोड़ी हैरानी हो सकती है कि कई तरह के दूध का स्रोत पेड़-पौधे होते हैं. उनसे निकलने वाले फल या अन्य उपज दूध के स्रोत होते हैं. इस तरह के दूध में भी पोषक तत्वों की भरपूर मात्रा पाई जाती है.

सोया का दूध (Soya Milk)

शुरुआत करते हैं, सोया मिल्क से. अन्य तरह के प्लांट मिल्क की तुलना में सोया मिल्क में प्रोटीन खूब पाया जाता है. जर्मन वेबसाइट डॉयचे वेले की रिपोर्ट के मुताबिक, एक कप यानी करीब 240 एमएल सोया दूध में करीब 6 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है. सोया मिल्क में कैल्शियम और विटामिन डी भी भरपूर पाया जाता है.

बादाम का दूध (Almond Milk)

आल्मंड मिल्क की भी दुनियाभर में खूब डिमांड है. बादाम तो अपने आप में पोषक तत्वों से भरपूर ड्राइफ्रूट है. इसमे फाइबर, कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन ई और मोनो-अनसैचुरेटेड फैट पाया जाता है. एक कप बादाम के दूध में करीब 1 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है. आल्मंड मिल्क बच्चों और बड़ों, दोनों के लिए अच्छा ऑप्‍शन है. खासकर उनके लिए, जिन्‍हें गाय, भैंस वगैरह के दूध से एलर्जी हो.

नारियल का दूध (Coconut Milk)

कोकोनट मिल्क सैचुरेटेड फैट से भरपूर होता है. पोषक तत्वों की बात करें तो एक कप कोकोनट मिल्क में करीब 4 ग्राम प्रोटीन होता है. नारियल के दूध का उपयोग अक्सर कई एशियाई व्यंजनों में किया जाता है. आजकल यह काफी ट्रेंड में है.

चावल का दूध (Rice Milk)

गाय-भैंस के दूध, सोया मिल्क वगैरह की तुलना में चावल में बहुत कम एलर्जेन होते हैं. 1 कप राइस मिल्क में करीब 1 ग्राम प्रोटीन होता है. वैसे लोगों के लिए यह अच्छा विकल्प है, जिन्हें लैक्टोस से एलर्जी है. ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म पर यह आसानी से उपलब्ध है. हालांकि यह काफी महंगा होता है.

कीनूआ का दूध (Quinoa Milk)

अक्सर सलाद के तौर पर खाया जाने वाला कीनूआ, बाकी अनाजों की तुलना में ज्यादा प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होता है. यह ग्लूटेन-फ्री होता है और इसमें सभी जरूरी अमीनो एसिड के अलावा मैग्नीशियम, आयरन और जिंक भी पाए जाते हैं. बहुत सारे लोग इसे घर पर भी तैयार कर लेते हैं. यूट्यूब पर how to make Quinoa Milk टाइप करते ही ढेर सारी वीडियो सामने आ जाएगी, जिससे आप इसे घर पर तैयार करना सीख सकते हैं.

तीसी का दूध (Flax Milk)

फ्लैक्स यानी तीसी के बारे में तो आपने सुना ही होगा. कई तरह के व्यंजन में इसका इस्तेमाल किया जाता है. फ्लैक्स का दूध भी तैयार होता है. बाजार में कई तरह के दूध के विकल्पों में यह भी एक ऑप्‍शन है. गाय-भैंस के दूध की तुलना में फ्लैक्स मिल्क में कम कैलोरी और कम फैट पाया जाता है.

ओट का दूध (Oats Milk)

ओट्स मिल्क मलाईदार होता है. इसका स्वाद लाजवाब होता है. गाय-भैंस के दूध की तुलना में इसमें ज्यादा विटामिन बी-2 पाया जाता है. एक कप ओट मिल्क में करीब 4 ग्राम प्रोटीन होता है. मीठे और नमकीन दोनों प्रकार के व्यंजनों में ओट्स मिल्क का इस्तेमाल किया जाता है.

काजू का दूध (Cashew Milk)

कैश्यू मिल्क यानी काजू का दूध स्वाद में लाजवाब होता है. इस मलाईदार दूध में विटामिन, खनिज, हेल्दी फैट और अन्य तत्व पाए जाते हैं. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, यह हमारी इम्यूनिटी मजबूत करता है. दिल, आंख और त्वचा के लिए भी इसका सेवन फायदमेंद है. इसे भी घर में तैयार किया जा सकता है. यूट्यूब पर ऐसे तमाम वीडिया मौजूद हैं. हालांकि किसी जानकार की देखरेख में इसे तैयार करें तो ज्यादा बेहतर रहेगा.

Check Also

बुखार में पीएं मौसमी का जूस, होगी इम्यूनिटी मजबूत

मौसम्बी के स्वास्थ्य लाभ: बदलते मौसम का असर सबसे पहले सेहत पर पड़ता है। जिससे वायरल ...