Monday , April 15 2024

इन विभागों के 70,000 सरकारी कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी, यहां देखें डिटेल

अर्जेंटीना में छंटनी: आर्थिक संकट से जूझ रहे अर्जेंटीना में सरकारी कर्मचारियों को बड़ा झटका लगने वाला है। अर्जेंटीना में बड़ी छंटनी होने वाली है. एक साथ 70,000 कर्मचारियों की नौकरी जाने वाली है. अर्जेंटीना के राष्ट्रपति जेवियर माइली देश की अर्थव्यवस्था पर बढ़ते बोझ को कम करने के लिए एक बड़ा कदम उठाने जा रहे हैं। अर्जेंटीना में आने वाले कुछ महीनों में 70 हजार लोगों की नौकरी चली जाएगी।

70 हजार सरकारी कर्मचारियों की छंटनी की तैयारी

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, अर्जेंटीना के राष्ट्रपति जेवियर माइली आने वाले महीनों में देशभर के 70,000 से ज्यादा सरकारी कर्मचारियों की छंटनी करने जा रहे हैं। आपको बता दें कि अर्जेंटीना काफी समय से आर्थिक संकट से जूझ रहा है। अर्थव्यवस्था दबाव में है. ऐसे में देश की अर्थव्यवस्था पर दबाव कम करने के लिए सरकार ने छंटनी करने का फैसला किया है.

35 लाख सरकारी कर्मचारी

रिपोर्ट के मुताबिक, अर्जेंटीना में 35 लाख से ज्यादा सरकारी कर्मचारी हैं। ऐसे में सरकार को उम्मीद है कि 70 हजार कर्मचारियों की छंटनी पर कोई बड़ा असर नहीं पड़ेगा. माना जा रहा है कि सरकार करीब 15 फीसदी कर्मचारियों का कॉन्टैक्ट रिन्यू नहीं करेगी. अर्जेंटीना के राष्ट्रपति जेवियर माइली ने कहा कि हाल के दिनों में देश और दुनिया में बड़े पैमाने पर छंटनी हो रही है. सरकार सार्वजनिक क्षेत्र में काम करने वाले 70 हजार कर्मचारियों का कॉन्ट्रैक्ट खत्म करने जा रही है. हालांकि यह पहली बार नहीं है, इससे पहले सरकार 50 हजार कर्मचारियों को नौकरी से निकाल चुकी है. रिपोर्ट के मुताबिक इन कर्मचारियों का कॉन्ट्रैक्ट 31 मार्च 2024 तक खत्म कर दिया जाएगा.

इन विभागों से कर्मचारियों की छंटनी की जाएगी

अर्जेंटीना के राष्ट्रपति जेवियर माइली के इस फैसले का कर्मचारी संगठनों ने विरोध शुरू कर दिया है. जिन कर्मचारियों को बाहर करने की बात हो रही है वे मानव पूंजी, विज्ञान और अर्थव्यवस्था मंत्रालय, सामाजिक सुरक्षा एजेंसी, ऊर्जा सचिवालय जैसे क्षेत्रों से हैं।

अर्जेंटीना कर्ज में डूब गया

अर्जेंटीना भारी आर्थिक संकट में डूबा हुआ है. यहां महंगाई दर 104 फीसदी के पार पहुंच गई है. अत्यधिक मुद्रास्फीति ने अर्जेंटीना को अत्यधिक गरीबी में धकेल दिया है। 1900 के दशक का अमीरों का यह देश आज भिखारियों का देश बनता जा रहा है। भारी कर्ज़, मुद्रा संकट, उच्च मुद्रास्फीति ने इसकी अर्थव्यवस्था को हिलाकर रख दिया है। केंद्रीय बैंक का भंडार तेजी से घट रहा है. विदेशी भंडार की कमी के बीच लड़खड़ाती मुद्रा को संभालने के लिए सरकार ने मुद्रा का अवमूल्यन किया, अब सरकार नौकरियों में कटौती कर रही है.