Sunday , June 23 2024

इजरायली हमले में गई कर्नल वैभव काले की जान, UN ने कहा- हम पहले भी कह चुके

सेवानिवृत्त भारतीय सेना कर्नल वैभव अनिल काले शहीद: भारतीय सेना के पूर्व कर्नल वैभव काले गाजा के दक्षिणी इलाके में इजरायली हमले में मारे गए। यह पहली बार है जब गाजा में इजरायल और हमास के बीच युद्ध के बीच किसी भारतीय की जान गई है। इस घटना को लेकर भारत ने भी चिंता जताई है. वैभव काले का शव भारत लाने की तैयारी कर रहा है। इस बीच संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने अहम खुलासा किया है, जिससे इस घटना में इजरायली सेना की गलती का पता चलता है. संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता रोलैंडो गोमेज़ ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र ने पहले ही इज़राइल को सूचित कर दिया है कि क्षेत्र में हमारे बेड़े की आवाजाही हो सकती है।”

संयुक्त राष्ट्र के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र ने इजरायली अधिकारियों को अपने बेड़े की गतिविधियों के बारे में सूचित किया था. ऐसा हर हाल में होता है. यह एक मानक प्रोटोकॉल है. कल भी यही हुआ और हमने इज़रायली अधिकारियों को सूचित किया। इतना ही नहीं, हमारे काफिले की गाड़ियों पर यह भी लिखा था कि ये यूएन की गाड़ियां हैं।’ तब इजराइल का कहना है, ‘हमें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. हम मामले की जांच करेंगे. वैभव काले की मौत की संयुक्त राष्ट्र और अमेरिकी विदेश विभाग ने निंदा की है और इसका दोष इजराइल पर मढ़ा है।

इस बीच, न्यूयॉर्क में भारत के स्थायी मिशन ने भी कर्नल काले की मौत पर दुख व्यक्त किया है। इस घटना को लेकर अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा, ‘कल जो हुआ वह चिंताजनक है. हम गाजा में संयुक्त राष्ट्र के वाहन पर हमले को लेकर चिंतित हैं. इस घटना में एक सहायता कर्मी की मौत हो गई है और एक घायल है.’

अमेरिकी प्रवक्ता ने कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र के लोगों की रक्षा की जानी चाहिए. वो लोग जान बचाने में लगे हुए हैं. हम इस घटना की गहन जांच की मांग करते हैं। इस बीच संयुक्त राष्ट्र ने उनके वाहन पर हुए हमले की जांच करने का फैसला किया है.

भारतीय पूर्व सैन्य अधिकारी वैभव कल संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा शाखा में कार्यरत थे। वह अपने एक सहकर्मी के साथ राफा के एक अस्पताल जा रहे थे. इसी दौरान उनकी कार पर हमला हुआ. जिसमें उनका एक साथी भी घायल हो गया. बता दें कि अब इजराइल राफा में काफी अंदर तक घुस चुका है। अनुमान है कि इसके कारण अब तक साढ़े चार लाख लोग पलायन कर चुके हैं।