Monday , June 24 2024

अमेरिका द्वारा चीनी उत्पादों पर टैरिफ लगाने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया

वाशिंगटन: वैश्विक व्यापार कारकों पर महत्वपूर्ण प्रभाव वाले एक रणनीतिक कदम में, बिडेन प्रशासन ने विभिन्न चीनी उत्पादों पर नए टैरिफ लगाने के अपने इरादे की घोषणा की। इन चीनी उत्पादों में ईवी, सौर बैटरी, उन्नत बैटरी, स्टील, एल्यूमीनियम और चिकित्सा उपकरण शामिल हैं। राष्ट्रपति बिडेन और उनके पूर्ववर्ती डोनाल्ड ट्रम्प के बीच तीव्र प्रतिस्पर्धा के बीच की गई यह घोषणा, दुनिया की दो सबसे बड़ी आर्थिक शक्तियों के बीच बढ़ते संघर्ष को उजागर करती है।

अगले तीन वर्षों में लगाए जाने वाले टैरिफ का उद्देश्य अनुचित व्यापार प्रथाओं के बारे में चिंताओं को दूर करना और घरेलू उद्योगों की रक्षा करना है। प्रशासन के अधिकारियों के इस आश्वासन के बावजूद कि टैरिफ से मुद्रास्फीति नहीं बढ़ेगी, बीजिंग के संभावित जवाबी कदमों से चीन के साथ तनाव बढ़ने की संभावना है।

अमेरिका की सबसे बड़ी चिंता कम लागत वाली चीनी ईवी हैं जो सरकारी सब्सिडी के कारण अमेरिकी बाजार पर कब्जा कर रही हैं। टैरिफ ऐसे आयात को कम करेगा और अमेरिकी श्रमिकों और उद्योगों की रक्षा करेगा। अमेरिकी प्रशासन उभरते प्रौद्योगिकी बाजारों पर हावी होने के बीजिंग के प्रयासों का मुकाबला करने के लिए ऐसे टैरिफ को महत्वपूर्ण मानता है। उन्होंने इस कदम को राष्ट्रीय सुरक्षा और आर्थिक स्थिरता के लिए महत्वपूर्ण बताया।

माना जाता है कि टैरिफ लागू करने का निर्णय चीन के साथ व्यापार संबंधों की व्यापक समीक्षा से लिया गया है। यह कदम सरकार को अनुचित व्यापार प्रथाओं से प्रभावी ढंग से निपटने का अधिकार देता है। हालाँकि, आलोचकों का कहना है कि टैरिफ महत्वपूर्ण होते हुए भी सीमित प्रभाव डालेंगे और केवल कुछ चीनी उत्पादों को प्रभावित करेंगे।

दूसरी ओर, चीनी सरकार ने तुरंत अमेरिकी कदम की आलोचना करते हुए इसे अंतरराष्ट्रीय व्यापार मानदंडों के खिलाफ बताया। चीन ने स्पष्ट किया कि ईवी और सौर सेल में उसके व्यापार में वृद्धि सब्सिडी के कारण नहीं बल्कि नए शोध के कारण हुई है।

चीनी राष्ट्रपति ने निर्यात को बढ़ावा देने के लिए ईवी और अन्य वस्तुओं का उत्पादन बढ़ाने का फैसला किया है क्योंकि रियल एस्टेट बाजार में मंदी और पहले कोविड के कारण चीन की अर्थव्यवस्था धीमी हो गई है। ऐसे समय में अमेरिका का यह कदम चीन को गलत आंकलन करा सकता है.